पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंडे पॉजिटिव:33 एकड़ की वीरान पहाड़ी को जनभागीदारी से बना दिया ऊर्जा का कुंज और पर्यावरण की पाठशाला

बड़वानी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
छुट्‌टी के दिन स्वयंसेवक बन अफसर करते हैं श्रमदान। - Money Bhaskar
छुट्‌टी के दिन स्वयंसेवक बन अफसर करते हैं श्रमदान।

6 माह पहले तक वीरान पड़ी आशाग्राम की पहाड़ी पर अब हरियाली ही हरियाली नजर आ रही है। 33 एकड़ पहाड़ी पर 30 हजार पौधे लगाए गए हैं। पहले यहां सिर्फ पंचमुखी हनुमानजी की प्रतिमा थी। अब मनोरंजन के संसाधन के साथ अध्यात्म, योग, खेल, सेहत के संसाधन भी उपलब्ध हैं। यहां आदि योगी की प्रतिमा, सनराइज व सनसेट पाइंट, गोवर्धन पर्वत आकर्षण के केंद्र हैं। खास बात यह है कि यह सब बिना किसी सरकारी बजट के हुआ। यहां पूरा काम जनभागीदारी से हुआ है।

कुछ समय पहले इस वीरान पहाड़ी की तलहटी में कुछ लोगों द्वारा अतिक्रमण करने का प्रयास किया गया था। इसके बाद कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने यहां पौधारोपण के साथ इस पहाड़ी को पिकनिक स्पॉट के रूप में विकसित करने का मन बनाया और जनभागीदारी से वीरान पहाड़ी को हरा-भरा करने के प्रयास शुरू किए।

अब यह बच्चों के लिए पर्यावरण की पाठशाला है तो बड़ों के लिए वर्जिश का केंद्र। यहां ओपन जिम है। कलेक्टर ने बताया शिव कुंज पूरे भारत में जनभागीदारी की नजीर है, जो शहरवािसयों व सैलानियों के लिए मनोरंजन, अध्यात्म व योग की अलौकिक विरासत है। आने वाले समय में यहां लोग शादी, जन्मदिन पर कार्यक्रम आयोजित कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं...