पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479750.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)65231-0.33 %

आज से शुरू होगी कॉलेज स्तर पर प्रवेश प्रक्रिया:लीड कॉलेज की यूजी-पीजी कक्षाओं में 1350 सीट खाली, 12वीं पास विद्यार्थियों द्वारा बड़े शहरों के कॉलेजों में प्रवेश लेने से खाली सीट

बड़वानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्रॉस एनरोलमेंट रेशो (जीईआर) की रिपोर्ट के मुताबिक उच्च शिक्षा में पढ़ाई में हमारा जिला पिछड़ा हुआ है। जीईआर में प्रदेश का रेशो 23 प्रतिशत है। यानी 12वीं पास होने के बाद विद्यार्थियों के कॉलेजों में प्रवेश कम हो रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश के 39 पिछड़े जिलों में बड़वानी जिला भी शामिल है। उच्च शिक्षा की स्थिति सुधारने के लिए भारत सरकार ने योजनाएं शुरू की है। कॉलेजों में नए कोर्स शुरू नहीं होने से विद्यार्थी बड़े शहरों में पढ़ाई करने जा रहे हैं। जिले के लीड कॉलेज एसबीएन पीजी कॉलेज में दो चरण की ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया के बाद यूजी व पीजी कक्षाओं में 1350 सीट खाली है। मंगलवार से कॉलेज लेवल काउंसलिंग के जरिए खाली सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा।

पीजी कॉलेज की स्नातक कक्षाओं में 2800 सीट में से 1700 सीट पर प्रवेश हुआ है। अब 1100 सीट खाली है। वहीं स्नातकोत्तर कक्षाओं में 1100 सीट में से 250 सीट खाली है। कॉलेज प्रबंधन को अब कॉलेज लेवल काउंसलिंग में रिक्त सीटों के भरने की संभावना है। जिले में 9 कॉलेज हैं। पीजी कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारी डॉ. प्रमोद पंडित ने बताया राष्ट्र का सकल प्रवेश अनुपात 30 फीसदी है। आने वाले समय में 50 प्रतिशत तक ले जाना है। 12वीं पास बच्चों का कॉलेज में प्रवेश कम होने से रेशो कम है। उन्होंने बताया ज्यादातर विद्यार्थी इंदौर व अन्य शहरों में पढ़ाई के लिए जाते हैं। इसके अलावा बच्चे जिला मुख्यालय के पीजी कॉलेज में प्रवेश लेना चाहते हैं।

2015 से शुरू हुई योजना

डाॅ. पंडित ने बताया 2015 में विश्व बैंक परियोजना और राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) शुरू हुई थी। रूसा योजना मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने शुरू कर भारत सरकार को कॉलेजों के विकास के लिए फंड दिया गया। विश्व बैंक परियोजना में विश्व बैंक ने सरकार को राशि दी। इसमें योजना के तहत 26 हजार करोड़ रुपए भारत की उच्च शिक्षा के विकास के लिए मिलना है। मप्र सरकार को 1 हजार करोड़ रुपए उच्च शिक्षा विकास के लिए भारत सरकार से मिलेंगे, जो कॉलेज भवन, फर्नीचर, बोर्ड, कम्प्यूटर, प्रोजेक्टर, स्क्रीन, उपकरण पर खर्च होंगे।

कोई नया कोर्स नहीं हुआ शुरू

जिले के कॉलेजों में इस साल कोई नया कोर्स शुरू नहीं किया है। डॉ. पंडित ने बताया लीड कॉलेज रोजागारोन्मुखी 6-6 माह के सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किए हैं। जिसमें डेयरी टेक्नालॉजी, कम्प्यूटर फोटो शाॅप, टेली अकाउंटिंग एंड जीएसटी, समेकित कृषि कोर्स शुरू किए गए हैं।

खबरें और भी हैं...