पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • After The PM, The Body Was Cremated Under Police Protection, Seeing The Tension, A Force Of 12 Deployed In The Village

सरपंच हत्या मामले में तीन गिरफ्तार, 03 फरार:पीएम के बाद पुलिस सुरक्षा में शव का हुआ अंतिम संस्कार, तनाव देख 12 का बल गांव में तैनात

जबलपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांव में खलरी गांव में जमा भीड़। - Money Bhaskar
गांव में खलरी गांव में जमा भीड़।

जबलपुर मुख्यालय से 60 किमी दूर खलरी गांव में रविवार 21 नवंबर को हुई सरपंच राजेश पटेल (37) की हत्या और उनके भाई जय कुमार पटेल पर जानलेवा हमला करने के मामले में सिहोरा पुलिस ने तीन आरोपियों रज्जू, शिवकुमार उर्फ सुंदर और नम्मू उर्फ स्वेदश बर्मन को देर रात दबोच लिया। 22 नवंबर को पीएम के बाद सरपंच का शव खलरी गांव ले जाया गया। वहां पुलिस सुरक्षा में अंतिम संस्कार किया गया। गांव में तनाव को देखते हुए एक एसआई सहित 12 का बल तैनात किया गया है। एएसपी ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल सिहोरा में कैम्प किए हुए हैं।

सिहोरा पुलिस के मुताबिक मारपीट में घायल खलरी गांव के सरपंच रहे राजेश पटेल के भाई जय कुमार पटेल की बेटी नंदनी पटेल की शिकायत पर पांच आरोपियों के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, धमकी देने सहित अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया गया है। बाद में एक आरोपी शिवकुमार का नाम ओर बढ़ाया गया। आरोपियों में गांव के श्रीराम बर्मन, शंकर बर्मन, रज्जू बर्मन, अभिषेक बर्मन और नम्मू बर्मन में देर रात दबिश देकर शिवकुमार, रज्जू और नम्मू उर्फ स्वेदश बर्मन को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य आरोपियों की तलाश जारी है।

लाल घेरे में सरपंच रहे राजेश पटेल।
लाल घेरे में सरपंच रहे राजेश पटेल।

चार हजार की आबादी वाले गांव में 15 घर बर्मन के

खलरी गांव में पटेल और कोल समाज की आबादी 90% है। गांव में 1500 के लगभग पटेल तो इतनी ही संख्या कोल समाज की है। वहीं 15 घर बर्मन समाज का है। सरपंच रहे राजेश पटेल की हत्या और उसके भाई पर हुए जानलेवा हमले के बाद से ही गांव में तनाव बना हुआ है। हत्या के बाद गांव में भेड़ाघाट, खितौला, मझगवां व पाटन थाने का बल पहुंचा था। गांव में तनाव को देखते हुए अब भी एसआई सहित 12 का बल तैनात किया गया है।

सोमवार को सरपंच के घर के जमा महिलाओं की भीड़।
सोमवार को सरपंच के घर के जमा महिलाओं की भीड़।

पीएम के बाद हुआ अंतिम संस्कार

सोमवार 22 नवंबर को सिहोरा में पीएम के बाद शव पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया। बड़ी संख्या में परिवार और रिश्तेदार के साथ गांव के लोग पहुंचे थे। पुलिस सुरक्षा में ही शव को गांव भिजवाया गया। सुरक्षा के बीच ही शव का अंतिम संस्कार कराया गया। एएसपी शिवेश सिंह बघेल हत्या के बाद से ही सिहोरा में कैम्प किए हुए हैं।

वहीं से पल-पल की मॉनीटरिंग और फरार आरोपियों की धरपकड़ में लगी टीम पर नजर रखी जा रही है। दरअसल त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की घोषणा के बाद से ही गांव में चुनावी माहौल भी इस मामले को तूल दे रहा है।

रोते-बिलखते परिजन।
रोते-बिलखते परिजन।

अंडे का ठेला लगाने से रोकने पर शुरू हुआ विवाद

सिहाेरा पुलिस के अनुसार बर्मन परिवार का शिव कुमार बर्मन गांव में अंडे का ठेला लगाता है। आरोप है कि सरपंच रहे राजेश पटेल उसे ठेला नहीं लगाने देते थे और बार-बार बर्मन परिवार के सदस्यों व महिलाओं को अपमानित करते रहते थे। विवाद से पहले राजेश पटेल ने शिवकुमार बर्मन को लाठी से मारपीट दिया था।

इसी के बाद गुस्साए बर्मन परिवार के श्रीराम बर्मन, रज्जू बर्मन व शंकर बर्मन लाठी व रॉड लेकर और कुछ देर बाद अभिषेक बर्मन लोहे की गुप्ती और नम्मू बर्मन डंडा लेकर पहुंचे थे। सभी ने मिलकर गांव के तालाब के पास खड़े राजेश पटेल और बीच-बचाव करने पहुंचे जय कुमार पर हमला बोल दिया था।

खलरी गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस बल तैनात।
खलरी गांव में तनाव को देखते हुए पुलिस बल तैनात।

सामाजिक पंचायत को लेकर भी था विवाद

दोनों परिवारों में पुराने सामाजिक पंचायत को लेकर भी रंजिश थी। जय कुमार का बेटा श्रीराम पटेल और गांव के भोलू पटेल पहुंचे, तब आरोपी भागे। दोनों को सिहोरा से मेडिकल कॉलेज ले जाते समय राजेश पटेल ने दम तोड़ दिया। वहीं जय कुमार की हालत गंभीर बनी हुई है। राजेश पटेल की हत्या के बाद से ही पत्नी रजनी पटेल और बेटा अर्जुन पटेल का रो-रोकर बुरा हाल है।

गांव शव लाने से पहले जमा भीड़।
गांव शव लाने से पहले जमा भीड़।
खबरें और भी हैं...