पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • In The Attempt To Murder Case, The Accused Had Made A Settlement By Threatening Them With A Gun, Jabalpur Police Took Action After Two Years

रज्जाक, सरताज व शाकिब सहित दो अन्य पर FIR:आरोपियों ने बंदूक से धमका कर करा लिया था समझौता, जबलपुर पुलिस ने दो साल बाद की कार्रवाई

जबलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अब्दुल रज्जाक और उसका भतीजा शहबाज को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। - Money Bhaskar
अब्दुल रज्जाक और उसका भतीजा शहबाज को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।

जबलपुर के हिस्ट्रीशीटर और देसी-विदेशी हथियार रखने के मामले में गिरफ्तार हो चुके नया मोहल्ला रिपटा निवासी अब्दुल रज्जाक की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही। साेमवार को जमानत की पेशी से पहले आरोपी पर एक और एफआईआर हनुमानताल में दर्ज हुआ है। आरोपी ने बेटे सरताज, शाकिब सहित दो अन्य से हत्या के प्रयास मामले में एक पीड़ित का अपहरण करा लिया था। धमका कर उसे समझौता करने के लिए मजबूर कर दिया था। अब उसकी शिकायत पर हनुमानताल पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है।

हनुमानताल सीएसपी अखिलेश गौर के मुताबिक रज्जाक, सरताज, शाकिब सहित अन्य आरोपियों के खिलाफ अपहरण, बंधक बनाने, घर में घुसने, साजिश रचने, आर्म्स एक्ट, हत्या के प्रयास का प्रकरण दर्ज किया गया है। पुलिस इस मामले में सुरक्षा कारणों से फरियादी का नाम ओपन नहीं कर रही है।

सितंबर 2020 में कराया था अपहरण कराया

हनुमानताल क्षेत्र निवासी एक युवक पर जानलेवा हमला किया गया था। इस मामले में रज्जाक पर आरोप था। पीड़ित ने थाने में शिकायत की तो उसका अपहरण कर लिया गया। बंदूक के बल पर धमका कर समझौता करने को विवश कर दिया गया। इस मामले में पीड़ित से स्टॉम्प पर हस्ताक्षर कराए गए थे। इसमें लिखवा लिया था कि उसने कभी कोई शिकायत नहीं की है। उसके नाम का दुरुपयोग किया गया है।

गिरफ्तारी के बाद पीड़ित को मिली हिम्मत

रज्जाक की गिरफ्तारी के बाद पीड़ित का हौसला बढ़ा। हिम्मत कर उसने 15 जनवरी को हनुमानताल थाने में पहुंच कर सितंबर 2020 में हुई घटना की शिकायत दी और प्रकरण दर्ज कराया। रज्जाक, उसका भतीजा शहबाज सहित अन्य आरोपी जेल में हैं। उस पर विजय नगर निवासी एक युवक के साथ मारपीट का प्रकरण दर्ज हुआ था। बाद में पुलिस ने घर से बड़ी मात्रा में असलहे जब्त किए थे। उस पर एनएसए की कार्रवाई हुई थी।

दबाव में विजय नगर मामले का पीड़ित पलटा

हनुमानताल की तरह ही विजय नगर का पीड़ित भी रज्जाक के दबाव में पलट गया। उसने कोर्ट में लिखकर दे दिया था कि उसके साथ कोई घटना नहीं हुई। पुलिस के दबाव में उसने शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं रज्जाक अपनी रसूख के दम पर एनएसए भी खारिज करा चुका है। अभी वह आर्म्स एक्ट के प्रकरण में जेल में है। उसके खिलाफ लार्डगंज में भी फर्जी तरीके से फर्म बनाकर स्कूल संचालन का प्रकरण दर्ज है। अब हनुमानताल में दूसरा मामला दर्ज हो गया।

हिस्ट्रीशीटर को उसके ही पैंतरे से मात दे रही पुलिस

हिस्ट्रीशीटर अब्दुल रज्जाक रसूख के दम पर अपने खिलाफ दर्ज प्रकरणों में इसी तरह लोगों को शिकायत लेने के लिए मजबूर करता रहा है। अपने इसी हथकंडे से अब तक वह बचता रहा है। पर इस बार पुलिस भी उसकी की तर्ज पर जवाब देने में जुटी है। उसके करतूतों की फाइल एक-एक कर खोली जा रही है। पुलिस की कार्रवाई से उसके सताए लोग भी धीरे-धीरे सामने आने लगे हैं।

खबरें और भी हैं...