पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61765.590.75 %
  • NIFTY18477.050.76 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47189-1.48 %
  • SILVER(MCX 1 KG)631020.23 %

IFS अधिकारी डॉक्टर शैलेंद्र सहित 19 पर FIR:जबलपुर EOW ने 13.80 लाख रुपए अनियमितता मामले में की कार्रवाई, सागौन की नीलामी में किया था गड़बड़झाला

जबलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईएफएस अधिकारी सहित 19 के खिलाफ ईओडब्ल्यू ने दर्ज की एफआईआर। - Money Bhaskar
आईएफएस अधिकारी सहित 19 के खिलाफ ईओडब्ल्यू ने दर्ज की एफआईआर।

राज्य आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (EOW) की जबलपुर टीम ने मंडला में सागौन की लकड़ी की नीलामी में ओवरराइटिंग कर ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने के मामले में बड़ी कार्रवाई की है। ईओडब्ल्यू ने आईएफएस अधिकारी डॉक्टर शैलेंद्र सहित 19 के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जीवाड़ा, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। प्रारंभिक जांच में 13.80 लाख रुपए अनियमितता की पुष्टि हुई है।

ईओडब्ल्यू एसपी देवेंद्र सिंह राजपूत के मुताबिक 23 जनवरी 2021 को मुख्य वन संरक्षक भोपाल के आदेश पर मंडला में पदस्थ रहे वन मंडल अधिकारी डॉ. शैलेंद्र कुमार गुप्ता के कार्यकाल में हुए सभी नीलामियों की विस्तृत जांच के लिए एक समिति का गठन हुआ था। समिति की जांच में सामने आया कि आईएफएस अधिकारी डॉ. गुप्ता के कार्यकाल में कुल 43 नीलामी हुआ था।

43 नीलामी में 30 में गड़बड़झाला मिला।
43 नीलामी में 30 में गड़बड़झाला मिला।

43 नीलामी में 30 में मिली गड़बड़ी

इसमें से 30 नीलामी में डॉ. गुप्ता ने जानबूझकर बिड शीट और ईएमडी पंजीयन में ओवरराइटिंग कर नीलामी की बोली को कम दर्शा दिया था। इससे नीलामी लेने वाले ठेकेदारों को फायदा हुआ। प्रारंभिक जांच में लगभग 13.80 लाख रुपए का फायदा ठेकेदारों को पहुंचाया गया है।

निलंबित चल रहे हैं डॉक्टर गुप्ता

जनवरी 2021 में हुए सागौन की नीलामी में गड़बड़झाला सामने आने के बाद शासन ने वन मंडल अधिकारी डॉ.शैलेंद्र कुमार गुप्ता निलंबित कर दिया था। इसके अलावा कई अन्य अधिकारियों पर भी गाज गिरी थी। अब विभागीय जांच प्रतिवेदन के साथ वन विभाग ने ईओडब्ल्यू में 19 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, दस्तावेजों में हेरफेर करने, साजिश रच कर भ्रष्टाचार करते हुए शासन को राजस्व का नुकसान पहुंचाने की धाराओं में प्रकरण दर्ज कराया है।

विभागीय जांच के बाद दर्ज कराई गई एफआईआर।
विभागीय जांच के बाद दर्ज कराई गई एफआईआर।

इनके खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर

  • वन मंडल अधिकारी मंडला रहे डॉ. शैलेंद्र कुमार गुप्ता।
  • ईएमडी अधिकारी कालपी एवं रसईयादौन रहे इंद्रभान गुप्ता
  • ईएमडी अधिकारी गाड़ासरई एवं करंजिया रंगीलाल परते।
  • ठेकेदार :- कृष्ण कुमार गुप्ता सागर, ऋषि टिम्बर जबलपुर, राजस्थान टिम्बर गोंदिया, नवीन कुमार गुप्ता सागर, मनमोहन सौ. मिल सागर, एनसी शाह गोंदिया, संतोष टिम्बर अम्बिकापुर, मां नर्मदा ट्रेडर्स डिंडोरी, परमार कंस्ट्रक्शन डिंडोरी, शहजादा टिम्बर ट्रेडर्स जसपुर, रामवली फर्नीचर मार्ट सतना, तौशीफ हसन जसपुर, गोयल टिम्बर स्टोर्स सतना, इलाही टिम्बर जसपुर, रियाजुद्दीन टिम्बर जसपुर और ईरम एंड कंपनी जसपुर।
खबरें और भी हैं...