पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो महीने में लखपति बनाने वाली खेती:फरवरी के पहले हफ्ते में लगाएं तरबूज-खरबूज, एक एकड़ से 12 से 22 टन उपज लें

जबलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

तरबूज और खरबूज की खेती से किसान दो महीने में लखपति बन सकते हैं। अधिक लाभ चाहिए तो फरवरी के पहले हफ्ते में ही तरबूज-खरबूज लगा दें। अप्रैल तक प्रति एकड़ 12 टन के करीब खरबूज और 22 टन के करीब तरबूज की उपज ले सकते हैं। बाद में इसी जमीन पर जुलाई में बैंगन और दूसरी फसल ले सकते हैं। भास्कर खेती-किसानी सीरीज 40 में तरबूज-खरबूज की खेती के बारे में आइए जानते हैं, एक्सपर्ट अमित दास (प्रगतिशील किसान मुनकवारा) से…

अमित के मुताबिक, तरबूज और खरबूज की खेती के लिए अभी से खेत तैयार कर लेने चाहिए। सबसे पहले खेत की गहरी जुताई करा लें। प्रति एकड़ दो से तीन टन गोबर की सड़ी खाद का प्रयोग करें। खेत में पानी की मात्रा कम या ज्यादा नहीं होनी चाहिए। तरबूज की बुवाई मेड़ों पर लगभग 2.5 से 3.0 मीटर की दूरी पर 40 से 50 सेमी चौड़ी नाली बनाकर करते हैं। लगभग 60 सेंटीमीटर की दूरी पर पौधे लगाएं। आजकल नर्सरी में तैयार पौधे मिल जाते हैं। इसे लगाएं। इसका फायदा ये है कि फसल जल्दी तैयार हो जाती है।

एक्सपर्ट का कहना है कि तरबूज-खरबूज की खेती की तैयारी अभी से शुरू कर लेना चाहिए।
एक्सपर्ट का कहना है कि तरबूज-खरबूज की खेती की तैयारी अभी से शुरू कर लेना चाहिए।

तरबूज और खरबूज की इन किस्मों का चयन कर सकते हैं

तरबूज की अच्छी किस्में- सुगर बेबी, दुर्गापुर केसर, अर्को मानिक, दुर्गापुर मीठा, काशी पीताम्बर, पूसा वेदना और न्यू हेम्पशायर मिडगट हैं। खरबूजे की उन्नत किस्में- हरा मधु, पूसा शरबती, पूसा मधुरस, पूसा रसराज और पंजाब सुनहरी हैं। एक एकड़ में पांच हजार पौधे तरबूज-खरबूज के लगते हैं। मैं 5 एकड़ में इसे लगाने की तैयारी कर रहा हूं।

बीज सही समय पर लगा दें तो तरबूज की पैदावार काफी अच्छी होती है।
बीज सही समय पर लगा दें तो तरबूज की पैदावार काफी अच्छी होती है।

सिंचाई और खाद

तरबूज की खेती में सिंचाई करनी पड़ती है। ड्रिप इरिगेशन के जरिए इसकी सिंचाई कर सकते हैं। इसका फायदा ये है कि कम पानी में हर पौधे की जरूरत पूरी की जा सकती है। इसी विधि से खाद भी दी जा सकती है। तरबूज-खरबूज में एनपीके 19:19 डालना चाहिए। ड्रिप इरिगेशन पर 80 हजार रुपए एकड़ और मल्चिंग के लिए 12 हजार रुपए लगते हैं।

तरबूज का प्रति एकड़ 22 टन उत्पादन होगा।
तरबूज का प्रति एकड़ 22 टन उत्पादन होगा।

अप्रैल में मिलती है अच्छी कीमत

तरबूज-खरबूज की अच्छी कीमत चाहिए तो अगैती खेती करनी चाहिए। तरबूज प्रति एकड़ 22 टन उत्पादन होता है। बाजार में 10 से 18 रुपए प्रति किलो की कीमत मिलती है। वहीं खरबूज का प्रति एकड़ उत्पादन 12 टन के लगभग होता है। बाजार में इसकी कीमत 20 से 25 रुपए आसानी से मिल जाता है। अप्रैल में पूरी फसल तैयार हो जाती है। इसके बाद इसी खेत में बैंगन लगा सकते हैं।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी फूलों की खेती से किसान हो सकते हैं मालामाल। खेती किसानी से संबंधित आपका कोई सवाल हो तो वॉट्सऐप नंबर 9406575355 पर मैसेज करें।

खेती से जुड़ी, ये खबरें भी पढ़िए:-

CA की पढ़ाई छोड़ी, बैम्बू ब्यूटी प्रोडक्ट में बनाया करियर:जबलपुर में बेटी चारकोल से बना रही 21 तरह के प्रोडक्ट; हर साल 6 लाख की कमाई

तीखी मिर्च घोल रही मिठास:जबलपुर में किसान ने 5 एकड़ में लगाई मिर्च, प्रति एकड़ 16 टन उपज; 60 मजदूरों को मिला काम

बैंगन से लखपति बनने वाले किसान की कहानी:जबलपुर में 6 एकड़ में बैंगन लगाकर सात महीने में तीन लाख कमाए; खेती के टिप्स दिए

बैम्बू फार्मिंग बदल देगी किस्मत:एक बांस की कीमत 100 से लेकर 2 हजार रुपए तक; जबलपुर में चाइना, अमेरिका समेत 61 देशों की किस्में

देश की पिंक सिटी में MP के गुलाब की डिमांड:जबलपुर में आधे एकड़ के पॉलीहाउस में गुलाब की पैदावार, रोज 7 से 8 हजार की सप्लाई

जबलपुर के स्टूडेंट ने बनाया देश का सबसे बड़ा ड्रोन:30 लीटर केमिकल लेकर उड़ सकता है, 6 मिनट में छिड़क देता है एक एकड़ खेत में खाद

बैक्टीरिया बनाएंगे पौधों के लिए खाद:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी ने 30 बैक्टीरिया खोजे, सूखे में भी पैदा करेंगे भरपूर फस

फरवरी में लगाएं खीरा:दो महीने में होगी बम्पर कमाई, पॉली हाउस हैं, तो पूरे साल कर सकते हैं खेत

फरवरी में करें तिल की बुआई, नहीं लगेगा रोग:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की चीफ साइंटिस्ट से जानें- कैसे यह खेती फायदेमंद

एक कमरे में उगाएं मशरूम:MP की सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी देती है ट्रेनिंग, 45 दिन में 3 बार ले सकते हैं उपज

खबरें और भी हैं...