पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX56747.14-1.65 %
  • NIFTY16912.25-1.65 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Despite The Ban On Bus Transport From Maharashtra, The Bus Was Carrying Passengers On Special Tourist Permit, Jabalpur FIR, Permit Also Canceled

प्रदेश की पहली कार्रवाई:महाराष्ट्र से बस परिवहन पर रोक होने के बावजूद स्पेशल टूरिस्ट परमिट पर यात्रियों को लेकर जा रही थी बस, जबलपुर FIR, परमिट भी निरस्त

जबलपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरटीओ ने अवैध तरीके से महाराष्ट्र जा रही बस को रोका था, अब परमिट भी निरस्त। - Money Bhaskar
आरटीओ ने अवैध तरीके से महाराष्ट्र जा रही बस को रोका था, अब परमिट भी निरस्त।

कोविड के चलते एमपी-महाराष्ट्र के बीच बस का परिवहन पूरी तरह से बंद है। बावजूद सागर से जारी स्पेशल टूरिस्ट परमिट पर सवारी ढोने वाले विजयंत ट्रैवल्स की बस एमपी 15 पीए 3744 के मामले में बड़ी कार्रवाई की गई है। जबलपुर आरटीओ की अनुशंसा पर सागर आरटीओ ने बस का परमिट रद्द कर दिया। वहीं बस संचालक, ड्राइवर और टिकट बुकिंग एजेंट के खिलाफ मदनमहल थाने में एफआईआर दर्ज कराई है।

आरटीओ संतोष पाल के मुताबिक विजयंत ट्रैवल्स की उक्त बस स्पेशल टूरिस्ट परमिट लेकर जबलपुर से नागपुर सामान्य सवारियों को लेकर सोमवार की रात जा रही थी। बस की चैकिंग में यात्रियों के पास नागपुर का टिकट मिला था। बस को मदनमहल थाने में जब्त कराया था। वहीं यात्रियों का किराया वापस कराया था। इसे लेकर सोमवार रात को यात्रियों ने हंगामा भी किया था। कुछ यात्रियों ने एसपी को कॉल कर दिया था।

बस से यात्रियों को उतरवा कर उनके पैसे वापस दिलाए गए थे।
बस से यात्रियों को उतरवा कर उनके पैसे वापस दिलाए गए थे।

मदनमहल थाने में दर्ज कराई एफआईआर

आरटीओ पॉल के मुताबिक प्रकरण में मदनमहल थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। टिकट जारी करने वाले बल्देवबाग निवासी सत्येंद्र तिवारी को भी आरोपी बनाया गया है। स्पेशल टूरिस्ट परिमट का भी ये उल्लंन है। टूरिस्ट परिमट जारी कराकर सामान्य सवारी ढोया जा रहा था। बस को सागर आरटीओ से परमिट जारी किया गया था। सागर आरटीओ को परमिट निरस्त करने का पत्र भेजा गया। इस पर परमिट निरस्त कर दिया गया। बस का परमिट 4 मार्च 2020 से 28 फरवरी 2021 तक ही था। इसके बाद से इसका संचालन स्पेशल टूरिस्ट परमिट के आधार पर किया जा रहा था।

खबरें और भी हैं...