पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जबलपुर रेडक्रॉस सोसायटी की नई कार्यकारिणी पर विवाद:1983 सदस्यों वाली सोसायटी में 80 सदस्यों को बुलाया, बिना चुनाव कराए नामों को कलेक्टर ने पढ़कर सुनाया

जबलपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेडक्रॉस की नई कार्यकारिणी पर बवाल। - Money Bhaskar
रेडक्रॉस की नई कार्यकारिणी पर बवाल।

जबलपुर रेडक्रॉस सोसायटी की वार्षिक साधारण सभा की बैठक और नई कार्यकारिणी का चयन विवादों में आ गया है। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने इसे जेबी संस्था बनाने का प्रयास किया है। 1900 से अधिक सदस्यों वाली इस सोसायटी की बैठक में 80 सदस्यों को बुलाकर बिना वोटिंग कराए ही नई कार्यकारिणी के नामों का ऐलान कर दिया गया।

इंडियन रेडक्रास सोसायटी, जिला शाखा जबलपुर की वार्षिक साधारण की बैठक शुक्रवार को कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला रेडक्रास सोसायटी कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में स्थानीय मानस भवन ऑडिटोरियम हॉल में हुई। जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव आशीष दीक्षित ने वित्तीय वर्ष 2020-21 में समिति द्वारा आयोजित गतिविधियों की जानकारी दी और समिति की ऑडिट रिपोर्ट के साथ आय-व्यय पेश किया गया।

कार्यकारिणी में ये हुए शामिल

रेडक्रास सोसायटी की नई कार्यकारिणी गठित की गई। बैठक में शामिल कुछ सदस्यों ने चुनाव के तरीके पर आपत्ति की तो उन्हें चुप करा दिया गया। दरअसल अब तक कार्यकारिणी का चुनाव वोटिंग के माध्यम से सदस्य करते आ रहे हैं। पहली बार कलेक्टर ने जेब से पर्चा निकाला और पढ़कर नामों को सुना दिया। इस नई कार्यकारिणी में सभापति जिला कलेक्टर कर्मवीर शर्मा बने, उपाध्यक्ष डॉ. जितेंद्र जामदार के अलावा दो और नाम डॉ. राजेश धीरावाणी और सौरभ बडेरिया का जोड़ा गया।

कोषाध्यक्ष अपर कलेक्टर प्रथम, राज्य स्तरीय वार्षिक साधारण सभा के लिए डॉ. पवन स्थापक, डॉ. राजीव सक्सेना और राज्य स्तरीय प्रबंध कार्यकारिणी समिति में डॉ. सुनील मिश्रा को शामिल किया गया। सचिव पद पर आशीष दीक्षित को बरकरार रखा गया। निर्वाचन अधिकारी संयुक्त कलेक्टर नम: शिवाय अरजरिया को बनाया गया था।

ऑडिट टीम को हटाया

अभी तक पुरानी कार्यकारिणी में ऑडिट का काम सीए अरुण ग्रोवर एंड एसोसिएट्स द्वारा किया जा रहा था। अब उससे काम छीन कर सीए राहुल एंड कंपनी को सौंप दी गई। कार्यकारिणी से रमेश नायडू सहित एक मृत सदस्य का नाम हटाया गया। वर्ष 2013 में आखिरी बार वोटिंग हुई थी। सोसायटी में 1983 आजीवन सदस्य हैं। दो संरक्षक, एक उपसंरक्षक हैं। दिसंबर 2021 तक 986 आजीवन सदस्य जोड़े गए।

रेडक्रास सोसायटी के वार्षिक साधारण सभा का शुभारंभ करते कलेक्टर।
रेडक्रास सोसायटी के वार्षिक साधारण सभा का शुभारंभ करते कलेक्टर।

कार्यकारिणी में ये बने सदस्य

कार्यकारिणी में पूर्व मंत्री चंद्रकुमार भनोत, नरेश ग्रोवर, राजकुमार शुक्ला, बीजेपी नेता अमर मिश्रा, बिल्डर महेश केमतानी, बलदीप मैनी, हेमंत अग्रवाल, मुकेश अग्रवाल, उपेंद्र यादव, डॉ. सुनील मिश्रा, संदीप जैन, हेमंत सहित संयुक्त संचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन जनकल्याण विभाग को सदस्य बनाया गया है।

रेडक्रास के आय-व्यय पर भी सवाल

रेडक्रास के आय-व्यय पर भी सवाल उठ रहे हैं। रेडक्रास ने 2020-21 में दो करोड़ 68 लाख 20 हजार 565 रुपए खर्च किए। इसमें से 66 लाख से अधिक भोजन बांटने पर खर्च हुआ। 32 लाख रुपए हैंड हेल्ड टेम्परेचर डिडेक्टर खरीदने, 9 लाख 67 हजार रुपए कोविड की दवा पर खर्च हो गए। 31 लाख रुपए से अधिक माइग्रेट लेबरों को खर्च कर दिया गया। 29 लाख रुपए का तो पीपीई किट खरीद लिया गया। 14 लाख रुपए का सैनिटाइजर मशीन खरीदा गया। वहीं 20 लाख रुपए का रेमडेसिविर इंजेक्शन खरीदा गया।

खबरें और भी हैं...