पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61765.590.75 %
  • NIFTY18477.050.76 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47189-1.48 %
  • SILVER(MCX 1 KG)631020.23 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • After The Decision Of District Crisis Management Committee, Children's Schools Will Open, Consent Letters Are Being Sought From Parents

जबलपुर में अभी नन्हें-मुन्ने को करना होगा इंतजार:जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के निर्णय के बाद खुलेंगे बच्चों के स्कूल, अभिभावकों से मांगे जा रहे सहमति पत्र

जबलपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जबलपुर में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट के निर्णय के बाद खुलेंगे बच्चों के स्कूल। - Money Bhaskar
जबलपुर में जिला क्राइसिस मैनेजमेंट के निर्णय के बाद खुलेंगे बच्चों के स्कूल।

प्रदेश में पहली से पांचवीं तक के बच्चों के स्कूल खोलने का आदेश भले ही राज्य सरकार ने जारी कर दी हो, लेकिन जबलपुर में अभी क्राइसिस मैनजमेंट के निर्णय के बाद ही प्राथमिक स्कूल खुलेंगे। निजी स्कूल मैनेजमेंट की ओर से अभी अभिभावकों से सहमति पत्र मांगे जा रहे हैं। इसके बाद ही स्कूल खोलने को लेकर निर्णय होगा।

जिला शिक्षाधिकारी घनश्याम सोनी के मुताबिक जिले में 1085 प्राथिमक स्कूल हैं। लगभग 70 हजार छात्र इसमें पढ़ रहे हैं। स्कूल के सभी शिक्षकों को वैक्सीनेशन कराना अनिवार्य कर दिया गया है। बच्चों को वही शिक्षक पढ़ा पाएंगे, जो वैक्सीन लगवा चुके हैं। जिला क्राइसिस मैनेजमेंट निर्णय लेकर गाइडलाइन तय करेगा, इसके बाद ही स्कूल खोले जाएंगे।

निजी स्कूल प्रबंधन बच्चों के क्लास रूम की साफ-सफाई करा कर क्लास लगाने की तैयारी में जुटे हैं।
निजी स्कूल प्रबंधन बच्चों के क्लास रूम की साफ-सफाई करा कर क्लास लगाने की तैयारी में जुटे हैं।

स्कूल रहे दुविधा में

स्कूलों को खोलने को लेकर स्थानीय स्तर पर कोई दिशा-निर्देश न मिलने की वजह से स्कूल प्रबंधन दुविधा में थे। इसके लिए अभी स्कूलों की तरफ से अभिभावकों से सहमति पत्र बुलाए जा रहे हैं। स्कूलों की तरफ से बच्चों की सुरक्षा का दावा करते हुए वीडियो बनाकर भेजे जा रहे हैं। इसमें हर क्लास के बाद सैनिटाइजेशन कराया जाएगा। सभी शिक्षकों को वैक्सीन लगवाने का दावा किया गया है। अभिभावकों की सहमति के बाद ही बच्चों के स्कूल की टाइमिंग जारी की जाएगी।

जिले में चार चरण में खुले स्कूल-कॉलेज

  • पहला चरण: जिले 26 जुलाई से छात्रों के लिए सबसे पहले 11वीं और 12वीं की क्लास 50% बच्चों के साथ शुरू किया गया। बच्चों के बैठने की जहां समुचित व्यवस्था नहीं है, वहां सप्ताह में एक दिन छोटे-छोटे ग्रुप में क्लास लगाने के निर्देश दिए गए थे। बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों की अनुमति जरूरी थी।
  • दूसरा चरण: 1 सितंबर से 6वीं से 12वीं तक की सभी क्लासेस रोजाना (रविवार को छोड़कर) खोलने का निर्णय लिया था। क्लास में 50% बच्चे उपस्थित रहने के निर्देश दिए गए थे। यह निर्णय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया था।
  • तीसरा चरण : 15 सितंबर से कॉलेजों को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोला गया। फाइनल ईयर के छात्रों के लिए हॉस्टल भी खोले जा रहे हैं।
  • चौथा चरण : 20 सितंबर से पहली से पांचवीं तक के क्लास खोलने के निर्देश राज्य सरकार ने दिए हैं। इसके साथ ही हॉस्टल वाले स्कूलों में 8वीं, 10वीं और 12वीं की क्लास 100% क्षमता के साथ खुलने के आदेश जारी हुए हैं। हालांकि अभी 11वीं क्लास के बच्चों को 50% क्षमता के साथ ही हॉस्टल में जगह मिलेगी।

MP में आज से 5वीं तक की क्लास:भोपाल में अधिकतर प्राइवेट स्कूलों में नहीं लगी क्लास; जबलपुर में क्राइसिस मैनेजमेंट के फैसला के बाद ही खुलेंगे

तिमाही परीक्षाएं 24 से 4 अक्टूबर तक

माध्यमिक शिक्षा मंडला बोर्ड ने हाईस्कूल और हायर सेकंडरी स्कूल की तिमाही परीक्षाओं की समय सारिणी भी जारी कर दी है। परीक्षाएं 24 सितंबर से शुरू होगी। जिले में लगभग 25 हजार छात्र-छात्राएं हैं। सभी परीक्षाएं एक ही पाली में होगी। 9वीं व 11वीं की परीक्षाएं सुबह 10.30 से दोपहर एक बजे तक और 10वी व 12वीं की परीक्षाएं दोपहर 1.30 बजे से शाम चार बजे तक होगी। चार अक्टूबर तक परीक्षाएं चलेंगी।

खबरें और भी हैं...