पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा-2020:मैथ्स और रीजनिंग पर ज्यादा फोकस की सलाह, एक्सपर्ट बोले- 60 सवाल इन्हीं सब्जेक्ट से आते हैं

इंदौर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा-2020 जनवरी में प्रस्तावित है। समय कम बचा है। परीक्षार्थियों को किन-किन सब्जेक्ट पर कैसे फोकस करना है, तैयारी किस तरह करना चाहिए, यह सब हमें एक्सपर्ट लखन यादव (निदेशक फोर्स डिफेंस एकेडमी) ने बताया। उनके मुताबिक एग्जाम के लिए परीक्षार्थियों को मैथ और रीजनिंग पर ज्यादा फोकस करना चाहिए। आइए उन्हीं से ही जानते हैं...

लखन यादव ने बताया कि एग्जाम में 35 से 40 सवाल मैथमेटिक्स के पूछे जाते हैं। 20-25 प्रश्न रीजनिंग से होते हैं। 60 सवाल इन दोनों सब्जेक्ट के मिलाकर पूछे जाते हैं। इसलिए सबसे पहले मैथ और रीजनिंग पर बहुत अच्छे से फोकस करें। मैथमेटिक्स के लिए 9वीं और 10वीं की बुक लगा सकते हैं। रिवीजन पर भी फोकस करें।परीक्षार्थी अगले 15 से 20 दिन में रिवीजन करें। इसके बाद कुछ मॉक टेस्ट दें। प्रीवियस ईयर के प्रश्न हल करने से परीक्षार्थियों को स्पष्ट होगा कि क्या-क्या पूछा गया है और कितना पूछा गया है और नए मॉक टेस्ट लगाने से यह पता चल सकेगा कि वे कितना परफॉर्म कर पा रहे हैं।

एमपी जीके का अच्छे से अध्ययन करें

करीब 60 प्रश्न मैथमेटिक्स और रीजनिंग से आते हैं। इसके बाद 25 प्रश्न साइंस, एमपी जीके और करंट अफेयर से होते हैं। ये सभी मिलाकर 85 प्रश्नों का वेटेज होता है। इसके बाद लगभग 15 प्रश्न हिस्ट्री, ज्योग्राफी सब्जेक्ट से आते हैं। इसलिए मैथमेटिक्स और रीजनिंग को प्राइमरी डाटा मानिए। इसके साथ-साथ मप्र के जनरल नॉलेज का अच्छे से अध्ययन करें। इन सब्जेक्ट्स का 9वीं-10वीं का लेवल का ज्ञान एक परीक्षार्थी में होना चाहिए। हिस्ट्री, ज्योग्राफी का भी समय मिले तो ठीक से रिवीजन कर लें। इस तरह 100 अंकों की प्लानिंग हो जाएगी।

इस प्लानिंग से करें रीविजन

मैथमेटिक्स और रीजनिंग के लिए परीक्षार्थियों को स्ट्रैटेजी अपनाना चाहिए। परीक्षार्थी चैप्टर वाइज प्रश्नों को हल करते जाएं। आपने अगर थ्योरी किसी बुक की पढ़ी है, तो यह सुझाव है कि किसी दूसरी बुक को भी ले सकते हैं, ताकि नंबर ऑफ प्रश्न और प्रश्नों में भी नयापन मिलेगा। इससे रिवीजन भी अच्छा होगा और परीक्षार्थियों की प्रैक्टिस में एक्यूरेसी आने की भी संभावना रहेगी। रीजनिंग में परीक्षार्थियों की तर्कशक्ति का, पूरा दिमाग का खेल रहता है। रीजनिंग के प्रश्नों की जितनी ज्यादा प्रैक्टिस करते है, प्रश्न आसान होते जाते है। क्योंकि वहां डाटा का बड़ा रोल रहता है।

ये भी पढ़िए:-

सेंट्रल बैंक में नौकरियां:115 पदों के लिए 23 नवंबर से आवेदन, 17 दिसंबर लास्ट डेट; ऑनलाइन होगा एग्जाम

खबरें और भी हैं...