पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अस्पतालों में आग का रियलिटी चेक:मेदांता के आईसीयू में मिली कई गड़बड़ियां, एक सर्किट पर लगे थे अधिक पॉवर पाइंट

इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मेदांत अस्पताल में लगी आग के बाद जिला प्रशासन द्वारा करवाई गई जांच में अस्पताल प्रबंधन की कई गड़बडिय़ां सामने आई हैं। खासकर आईसीयू में बिजली से जुड़े उपकरणों को लेकर। कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देश पर प्रशासनिक जांच में पांच प्रमुख बिंदू निकले हैं। प्रशासन ने इन बिंदुओं को सही करवाने तक आईसीयू नंबर 4 में मरीजों की भर्ती पर रोक लगा दी है।

अब प्रबंधन को पहले उनका समाधान करना हाेगा। उसकी जांच फिर प्रशासनिक टीम करेगी। इसके बाद ही इसे मरीजों के लिए खाेला जाएगा। जांच के बाद कलेक्टर ने कहा कि जांच में जो गड़बड़ियां सामने आई हैं, उनके ठीक होने तक नए गंभीर मरीजों को भर्ती नहीं किया जा सकेगा।

प्रशासन को जांच में ये खामियां मिली

  • आईसीयू के प्रत्येक बेड के लिए अलग-अलग इलेक्ट्रिक सर्किट नहीं पाए गए। एक ही सर्किट पर एक से अधिक पॉवर पाइंट बना दिए गए थे।
  • प्रत्येक सर्किट पर एलसीबी (अर्थ लीकेज सर्किट ब्रेकर) लगाया जाना था, जो कि घटना स्थल पर नहीं पाया गया।
  • प्लायवुड कैबिनेट के पीछे बिना कंड्यूट के खुली वायरिंग पाई गई, जिसे मेटेलिक कंड्यूट में लेकर जाना था।
  • स्विच बोर्ड को फायर प्रूफ बॉक्स में लगाया जाना था, जो कि प्लायवुड पर लगा पाया गया।
  • एमसीबी लगा पाया गया, किंतु दुर्घटना के समय एमसीबी ठीक से काम नहीं कर रहा था।
  • (जैसा अपर कलेक्टर व जांच समिति के प्रमुख पवन जैन ने बताया)

प्रशासन की गाइड लाइन- बड़े अस्पतालों में जहां 2 किलो वॉट का लोड उन्हें अर्थ लीकेज सर्किट ब्रेकर लगाना होगा

मेदांता में गड़बड़ियां मिलने के बाद प्रशासन ने सभी अस्पतालों में इलेक्ट्रिक सेफ्टी का पालन करवाने के नए निर्देश जारी किए हैं। सभी बड़े अस्पताल में इलेक्ट्रिक सेफ्टी का पालन जरूरी है। संचालक इसका ध्यान रखें।

इन नियमों का पालन करना अनिवार्य

  • जहां 2 किलो वॉट से अधिक का बिजली लोड है, वहां अर्थ लीकेज सर्किट ब्रेकर स्थापित करना होगा।
  • सभी एलटी (लो-टेंशन) स्थापनाओं के थ्री फेज उपकरणों/पैनल के मेटेलिक पार्ट को दो स्थानों पर एवं सिंगल फेज उपकरण-पैनल के मेटेलिक पार्ट को कम से कम एक स्थान पर अर्थ के साथ जोड़ा जाए।
  • बेड व बिजली उपकरणों की ओवर हीटिंग रोकने के लिए सर्किट पर ज्यादा लोड न बढ़ाया जाए।
  • पैनल-बोर्ड-स्विच-थ्री पिन सॉकेट में ब्लेक स्पॉट अथवा ओवर हीटिंग के निशान दिखने पर बिजली के लोड की जांच की जाएं। मौजूदा केबल-एमसीबी को विद्युत भार की क्षमता अनुसार बदला जाए।
खबरें और भी हैं...