पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

बदला मौसम, दो दिन होगी बारिश, रिमझिम शुरू:सितंबर के 11 दिनों में अब इंदौर को 5 इंच पानी की जरूरत, आज और कल अच्छी बारिश के आसार

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शनिवार सुबह से रिमझिम, फिर दोपहर को कई क्षेत्रों में रुक-रुककर हुई बारिश के बाद शाम को रिमझिम का सिलसिला भी थम गया। रात को भी कहीं रिमझिम की सूचना नहीं है जबकि मौसम विभाग ने 19 व 20 सितंबर को अच्छी बारिश के आसार बताए हैं। इधर, बारिश के इस मौसम के लिहाज से भले ही अलग-अलग दौर में सामान्य बारिश हुई हो लेकिन 29 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। अब इंदौर को औसत कोटे (34 इंच) के लिए 5 इंच पानी चाहिए जबकि 11 दिन बाकी हैं। इधरर, रविवार दोपहर शहर में बादल छा गए और कई क्षेत्रों में रिमझिम शुरू हो गई।

पिछले चार दिनों से मौसम की अठखेलियों से अब आमजन भी वाकिफ हो गए हैं। दिन में कभी फुहार, कभी रिझमिम कभी 15-20 मिनिट बारिश तो कभी धूप निकल जाती है। कई हिस्से तो ऐसे भी रहे हैं जहां रिमझिम बारिश भी नहीं हुई हैं लेकिन रविवार-सोमवार को मौसम वैज्ञानिकों ने 48 घंटों में अच्छी बारिश की संभावना बताई है। मौसम वैज्ञानिक (एग्रीकल्चर कॉलेज) डॉ. एचएल खापड़िया ने बताया कि इन दिनों अरब सागर व बंगाल की खाड़ी में द्रोणिका बनने से इसका असर गुजरात के साथ मप्र के कुछ हिस्सों में रहेगा। इसके चलते इंदौर, धार, झाबुआ, खंडवा, खरगोन आदि स्थानों पर दो दिन अच्छी बारिश होगी। वैसे रविवार को अनंत चतुर्दशी है और इस बार झांकियों का चल समारोह नहीं निकलेगा। ऐसे में अगर तेज बारिश भी होती है तो जिला प्रशासन व लोगों को चिंता नहीं रहेगी। हालांकि नगर निगम ने हमेशा की तरह शहर में गणेश विसर्जन के लिए पर्यावरण हितैषी कुण्ड बनाए हैं।

वैसे इस बार की बारिश से सोयाबीन की बाद की बोवनी की गई। सोयाबीन की नई वैरायटियों की फसलों को अच्छी ग्रोथ मिल गई है। अब अगर बाकी दिन रिमझिम बारिश होकर नमी भी रहती है तो कोई नुकसान नहीं है। ऐसे ही बाकी 11 दिनों में तालाब भी पूरी तरह भर जाते हैं तो अक्टूबर-नवंबर में मालवा-निमाड़ को रबी की फसलों के लिए अन्य जलस्त्रोतों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। जिले के यशवंत सागर, बड़ा बिलावली, छोटा बिलावली, पीपल्यापाला, सिरपुर तालाब आदि का जल स्तर अच्छा है। अब अगर लगातार कई घंटे तेज बारिश होती है तो ही यशवंत सागर के सायफन खोले जा सकेंगे। चार दिन पहले रात को कुछ घंटों के लिए एक सायफन खोला गया था लेकिन बारिश रुकने पर जैसे ही जल स्तर कम हुआ तो सायफन बंद करना पड़ा था।

खबरें और भी हैं...