पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खजराना गणेश से मांगी थी मन्नत, जीतने पर टेका माथा:पहली बार रणजी ट्रॉफी जीतने वाली 'टीम MP' का ग्रैंड-वेलकम, फैंस ने सिर-आंखों पर बैठाया

इंदौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के सबसे पुराने और प्रतिष्ठित घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी जीतकर इतिहास रचने वाली मध्यप्रदेश की टीम सोमवार शाम बेंगलुरु से इंदौर पहुंची। इस दौरान एयरपोर्ट से लेकर खजराना गणेश मंदिर और होल्कर क्रिकेट स्टेडियम तक विजेताओं का भव्य स्वागत किया गया।

एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत

सोमवार शाम करीब 7 बजे टीम एमपी इंदौर एयरपोर्ट पहुंची। जहां उमड़े क्रिकेट फैंस ने उनका स्वागत किया। मध्यप्रदेश प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ ही इंदौर क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय भी एयरपोर्ट पहुंचे थे। जहां उन्होंने विजेता टीम को जीत की बधाई दी और उनका स्वागत किया। खिलाड़ियों को फूल-मालाएं पहनाई गई, साथ ही मिठाई भी खिलाई गई।

रणजी ट्रॉफी विजेता टीम इंदौर पहुंची, IDCA अध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय ने किया कोच, सिलेक्टर्स और टीम का स्वागत।
रणजी ट्रॉफी विजेता टीम इंदौर पहुंची, IDCA अध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय ने किया कोच, सिलेक्टर्स और टीम का स्वागत।

खजराना गणेश मंदिर में किए दर्शन

एयरपोर्ट से टीम एमपी के सभी खिलाड़ी, कोच और स्टॉफ मेंबर्स बस में सवार होकर खजराना गणेश मंदिर पहुंचे। जहां सभी ने भगवान गणेश के दर्शन और पूजा-अर्चना कर उनका आशीर्वाद लिया। दरअसल टीम के कोच चंद्रकांत पंडित ने खजराना गणेश से जीत की मन्नत मांगी थी। लिहाजा इंदौर पहुंचते ही पूरी टीम खजराना मंदिर पहुंची और भगवान गणेश के दर्शन कर जीत के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। इस दौरान खेल जगत की नामी हस्तियों के अलावा कई गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद रहे।

खजराना गणेश मंदिर के दर्शन करते हुए मध्यप्रदेश टीम के खिलाड़ी।
खजराना गणेश मंदिर के दर्शन करते हुए मध्यप्रदेश टीम के खिलाड़ी।

होल्कर स्टेडियम में टीम एमपी का स्वागत

इसके बाद टीम एमपी सीधे होल्कर क्रिकेट स्टेडियम पहुंची। यहां भव्य आतिशबाजी से विजेता खिलाड़ियों का स्वागत किया गया। सभी खिलाड़ियों का सम्मान किया गया। इस दौरान खिलाड़ियों का फोटो सेशन भी हुआ।

बता दें कि रणजी टूर्नामेंट के 88 साल के इतिहास में ये पहला मौका है जब मध्यप्रदेश की टीम ने यह खिताब जीता है। टीम एमपी ने फाइनल मुकाबले में 41 बार की विजेता मुंबई को 6 विकेट से मात देकर घरेलू क्रिकेट में बादशाहत हासिल की।

मध्यप्रदेश की टीम के कोच चंद्रकांत पंडित को फूलमालाओं से लाद दिया गया।
मध्यप्रदेश की टीम के कोच चंद्रकांत पंडित को फूलमालाओं से लाद दिया गया।
स्टेडियम पहुंचने के बाद ट्रॉफी के साथ फोटो खिंचवाते हुए रणजी चैम्पियन टीम के खिलाड़ी।
स्टेडियम पहुंचने के बाद ट्रॉफी के साथ फोटो खिंचवाते हुए रणजी चैम्पियन टीम के खिलाड़ी।

मुंबई को हराकर जीता खिताब

बेंगलुरु के एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में मध्यप्रदेश रणजी टीम ने इतिहास रच दिया। 2022 के रणजी ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में मध्यप्रदेश ने मुंबई को 6 विकेट से हराकर पहली बार खिताब जीता।बता दें कि मध्यप्रदेश की टीम 1954-55 से रणजी ट्रॉफी खेल रही है। ऐसे में उसने 67 साल का सूखा खत्म करते हुए पहली बार रणजी ट्रॉफी जीती है।

ये भी पढ़ें...

23 साल पहले जो मिस किया...उसे पा लिया:रणजी चैंपियन टीम एमपी के कोच चंद्रकांत पंडित बोले-शायद भगवान ने हमें इसीलिए यहां बुलाया

घरेलू क्रिकेट का नया बादशाह मध्यप्रदेश:88 साल में पहली बार रणजी हमारी, मुंबई को 6 विकेट से धूल चटाई; मिलेंगे 4 करोड़ रुपए