पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %

'अपनों' की मौत के बाद परिजन का जज्बा:इंदौर में 48 घंटों में छह लोगों की आंखें डोनेट, अब 12 लोगों की अंधेरी जिंदगी में होगी रोशनी

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अंगदान में अग्रणी रहे इंदौर के लोग नेत्रदान के प्रति भी उतने ही संवेदनशील हैं। पिछले 48 घंटे में शहर में हुई 6 लोगों की मौत के बाद उनके परिजन ने उनकी आंखें डोनेट की हैं। खास बात यह कि जिन लोगों की मौत हुई है, वे परिवार के मुखिया ही थे। अब इनकी आंखों से 12 लोगों की अंधेरी दुनिया में उजियारा होगा।

विजया दशमी के दिन जिन चार लोगों की मौत हुई है। इसमें एक इलेक्ट्रिक व्यवसायी सरदार त्रिलोचन सिंह होरा (77) निवासी गोल्ड कॉलोनी, मां विहार के सामने हैं। दो दिन पहले वे सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस पर उन्हें चोइथराम हॉस्पिटल में भर्ती किया था। इस दौरान उनके ब्रेन ने काम करना बंद कर दिया। इस परिवार ने उनके अंगदान की इच्छा जताई, लेकिन जब डॉक्टरों ने परीक्षण किया तो उनका बीपी काफी लो था। इस बीच कार्डियेक अरेस्ट से उनकी मौत हो गई। मामले में परिजन ने प्रभु आज्ञा फाउंडेशन के प्रकाश रोचलानी से संपर्क किया और आंखें ही दान करने की बात कही। इसके बाद हॉस्पिटल से समन्वय कर उनकी आंखें डोनेट की गई। परिजन को इस बात पर संतोष है कि उनकी आंखों से अब दूसरों को रोशनी मिलेगी।

ऐसे ही समाजसेवी स्व. नेयनाबेन शाह (77) निवासी कंचन बाग की घर में ही हार्ट अटैक से मौत हो गई। इसी तरह रजनीश जैन (53) लोकमान्य नगर बीमारी के चलते यूनिक हॉस्पिटल में भर्ती थे। इस दौरान उनकी भी कार्डियेक अरेस्ट से मौत हो गई। एक ऐसा ही मामला टीकमचंद कटारिया (70) निवासी वीर सावरकर नगर का है। उनकी भी हार्ट अटैक से मौत हो गई। मामले में तीन परिवारों ने इस सेवा काम से जुड़ी संस्था मुस्कान ग्रुप के जीतू बागानी व संदीपन आर्य से संपर्क किया। इस पर ग्रुप ने एमके इंटरनेशनल आई बैंक से समन्वय कर इन चारों की आंखों की डोनेट प्रक्रिया पूरी कराई।

दुर्घटना में भोपाल के युुवक की मौत के बाद आंखें डोनेट

नरेश लोहानी (भोपाल)
नरेश लोहानी (भोपाल)

एक मामला नरेश लोहानी (40) निवासी भोपाल का है। वे देवास के पास एक सड़क दुर्घटना में घायल हो गए थे। इस पर उन्हें बॉम्बे हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था जिनकी शनिवार को मौत हो गई। परिजन की इच्छानुसार पोस्टमॉर्टम के बाद उनकी आंखें डोनेट की गई है। वे चार भाइयों में सबसे छोटे थे। मामले में मुस्कान ग्रुप द्वारा उनका शव भोपाल भेजा गया।

अनुसूया निर्मल
अनुसूया निर्मल

ऐसे ही अनुसूया निर्मल (72) निवासी सर्वहारा नगर का शनिवार को हार्ट अटैक से निधन हो गया। परिजन की सहमति पर उनकी भी आंखें डोनेट की गई। इस तरह 48 घंटों में 6 लोगों की आंखें डोनेट की गई जिससे अब 12 लोगों की अंधेरी जिंदगी में रोशनी होगी।