पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

अफेयर में नर्सिंग हेड ने कराई हत्या:इंदौर में प्रेमिका के पति को धमकाने भेजे बदमाश, उन्होंने मार डाला; प्रेमी-प्रेमिका गिरफ्तार

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर में हुई BPO कर्मी आकाश मेडकिया की हत्या के मामले में खुलासा हो गया है। आकाश की हत्या देवास के नर्सिंग हेड मनीष शर्मा ने कराई थी। मनीष का आकाश की पत्नी वृतिका से अफेयर है। आकाश को इसका पता लग गया था। मनीष ने आकाश को धमकाने के लिए बदमाश भेजे थे, लेकिन उन्होंने चाकू मारकर हत्या कर दी। घटना पोलोग्राउंड के पास 13 अक्टूबर की सुबह हुई थी।

बाणगंगा पुलिस ने पुलिस ने मर्डर केस में मनीष और वृतिका के अलावा देवास के अमलतास हॉस्पिटल के हाउस कीपिंग इंचार्ज जितेंद्र लीलाधर वर्मा (जामनोद, देवास), अर्जुन मंडलोई (पिपलिया, देवास) और अंकित सिंह पंवार (उज्जैन) को भी अरेस्ट किया है।

मूलत: उज्जैन निवासी आकाश इंदौर में वाल्मीकि नगर में रहता था। SP आशुतोष बागरी के मुताबिक, CCTV फुटेज में बाइक पर दो संदिग्ध दिखे थे। मर्डर में लूट फिर कर्ज के लेन-देन और अवैध संबंध के एंगल से जांच की गई। आकाश की पत्नी वृतिका उर्फ मोना के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली। उसकी नर्सिंग हेड मनीष शर्मा से सबसे ज्यादा बात और चैटिंग की डिटेल मिली। पुलिस ने मनीष को देवास से इंदौर लाकर पूछताछ की। उसने दो बदमाशों से हमला कराने की बात स्वीकार की है।

पत्नी से दूर रहने का कहा था
आकाश की पत्नी वृतिका भी अमलतास हॉस्पिटल में जॉब करती है। मनीष और वृतिका में अवैध संबंध थे। आकाश को जब इसका पता चला तो उसने देवास पहुंचकर मनीष को पत्नी से दूर रहने का कहा था। मनीष ने आकाश को सबक सिखाने के लिए अस्पताल के कर्मचारी जितेंद्र और वृतिका के साथ मिलकर सबक सिखाने की साजिश रची थी।

साजिश, फिर ऐसे की वारदात
किसी को शक न हो, इसलिए आकाश के मर्डर से पहले मनीष राजस्थान चला गया था। यहां उसने अर्जुन और अंकित को बाइक, मोबाइल और चाकू उपलब्ध करा दिया था। आकाश का फोटो दिखाकर उसकी पहचान कराई थी। हमला करने के एक दिन पहले अर्जुन और अंकित सरवटे बस स्टैंड पर आकर रुक गए थे। सुबह वृतिका ने निकलने से पहले मनीष को मिस कॉल कर दी थी, ताकि हमलावर तैयार हो जाएं। जब वृतिका को बस में बैठाकर आकाश लौटने लगा, तभी हमलावरों ने उसकी आंख में मिर्च डालकर चाकू मारे। मनीष और वृतिका पर शक न हो, इसके लिए हमला करते समय लेन-देन के रुपए लौटाने की बात की।

धमकाने के लिए बुलाए थे हमलावर
मनीष शर्मा मूलत: राजस्थान का रहने वाला है। वह पहले इंदौर के बाणगंगा इलाके के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में था। यहां टूल चोरी के मामले में उसे निकाल दिया गया था। यहीं के दो कर्मचारी लड़के मनीष के संपर्क में थे। उनकी मदद से पूरी वारदात को अंजाम देने की बात सामने आ रही है। पूछताछ में पता चला है कि आकाश को मनीष और पत्नी वृतिका की दोस्ती पर शक हो गया था। यह बात वृतिका ने मनीष को बताई थी। डॉक्टर पर पहले भी महिला कर्मचारियों से दोस्ती और गलत काम करने के आरोप लग चुके हैं।

125 कैमरे, 10 गांवों में जांच
आकाश के हत्यारों पर 10 हजार का इनाम घोषित किया गया था। पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाकर करीब 10 गांवों में भेजी गईं। हमलावरों के भागने के रूट के कई टोल के साथ रास्ते में लगे लगभग 125 CCTV कैमरों की फुटेज को खंगाला गया। हमलावर उज्जैन की ओर भागते हुए दिखाई दिए। गाड़ी नंबर के आधार पर 15 संदिग्धों से भी पूछताछ की गई। ऐसे 20 कर्जदारों से भी पूछताछ की, जिनसे आकाश का लेन-देन था।

डेढ़ साल पहले की थी लव मैरिज
आकाश ने डेढ़ साल पहले वृतिका से लव मैरिज की थी। परिवार इसके खिलाफ था। बाद में मान गया था। दंपती उज्जैन से इसी साल जनवरी में इंदौर रहने आए थे। 13 अक्टूबर की सुबह आकाश पत्नी वर्तिका को बस स्टॉप पर छोड़कर घर लौट रहा था, तभी यह वारदात हुई। वारदात के 15 मिनट बाद पहुंची पुलिस ने जेब से मिले मोबाइल व दस्तावेजों से पहचान कर घरवालों को खबर की। पत्नी देवास के निजी हॉस्पिटल के HR विभाग में काम करती है।

पत्नी को ऑफिस के लिए बस में बैठाकर घर जा रहा था, बदमाशों ने आंखों में मिर्ची डाली और चाकू से ताबड़तोड़ वार किए