पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60995.230.12 %
  • NIFTY18202.550.13 %
  • GOLD(MCX 10 GM)473800.04 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646780.63 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Corporation Workers Threw Ganesh Idol In Stone Quarry, Commissioner Reprimanded After Video Went Viral, Officers Reached The Spot

नंबर 1 शहर को फिर किया शर्मसार!:इंदौर के नगर निगम कर्मचारियों ने खदान के पानी में फेंक दीं घर से एकत्रित गणेश प्रतिमाएं, VIDEO सामने आने के बाद आयुक्त ने लताड़ा

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इंदौर के धार रोड पर गिट्‌टी खदान में नगर निगम कर्मचारियों ने आस्था का अपमान किया है। सोमवार को यहां पर निगम अफसरों की मौजूदगी में गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन किया जा रहा था। जैसे ही अधिकारी वहां से हटे तो कर्मियों ने ट्रक और जेसीबी के अंदर से ही तालाब में मूर्तियों को फेंकना शुरू कर दिया गया। इसका वीडियो सामने आने के बाद अधिकारियों ने पहले इसे इंदौर का होने से इनकार कर दिया। फिर बाद में इसकी पृष्टि की। इस मामले में अपर आयुक्त की फटकार के बाद अधिकारियों ने माफी मांगते हुए व्यवस्था बनाने की बात कही है।

नगर निगम ने 85 वार्डों में गणेश प्रतिमा विसर्जन की व्यवस्था की थी। उसमें पीओपी की मूर्तियों को व्यवस्थित तरीके से गिट्‌टी खदान वाले स्थान पर विसर्जित करने की बात कही थी। सोमवार को इसका काम किया जाना था, लेकिन खदान में अधिकारियों के हटते ही निगमकर्मियों ने मूर्तियों को बुरी तरह से बाहर फेंकना शुरू कर दिया। अपर आयुक्त अभय राजगांवकर को गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन की व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। मामला सामने आने के बाद राजगांवकर ने गलती मानते हुए नई व्यवस्था बनाने की बात की है।

चेन सिस्टम से करना थी विसर्जित
आयुक्त प्रतिभा पाल ने भी इस मामले में अधिकारियों को फटकार लगाई। उनके मुताबिक, कर्मचारियों का यह तरीका उचित नहीं था। मूर्तियों को एक चेन सिस्टम से पानी में विसर्जित करना था। उन्होंने अपने एक आदेश का हवाला देकर धार्मिक रीति रिवाज से मूर्ति विसर्जित की बात कही थी। उन्होंने कर्मचारियों की पहचान के बाद कार्रवाई की बात कही है

कांग्रेस ने बताया आस्था पर आघात
शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल ने इसे आस्था के साथ खिलवाड़ बताया। उन्होंने कहा कि घर-घर से विसर्जन के लिए लाई गई प्रतिमा का कितनी गलत तरीके से विसर्जन करना दुर्भाग्यपूर्ण है।
अगर नगर निगम विधि विधान से गणेश जी की प्रतिमा को विसर्जन नहीं कर पा रहा था, तो इसको प्रतिमा ले जाने की जरूरत क्या थी।

खबरें और भी हैं...