पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12 लाख का काष्ठ रथ:इंदौर से पूजन के बाद उज्जैन के लिए हुआ रवाना, कई स्थानों पर होगा रथ का स्वागत

इंदौर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर से रवाना हुआ रथ - Money Bhaskar
इंदौर से रवाना हुआ रथ

मालवांचल के नर्मदा तट स्थित सत्यधाम आश्रम से रवाना होकर ट्राले में इंदौर आया 12 लाख रुपए की लागत से बना काष्ठ रथ मंगलवार सुबह पूजन के बाद उज्जैन के लिए रवाना हुआ। इंदौर के एमआर-10 रोड स्थित स्वस्तिक गार्डन से रथ को विदाई दी गई। इस दौरान कई श्रद्धालु यहां पहुंचे और रथ के दर्शन करें। दरअसल, यह रथ सोमवार रात को सत्यधाम आश्रम से रवाना होकर इंदौर पहुंचा था। यहां गार्डन के समीप रथ के और रथ के साथ आए श्रद्धालुओं के रुकने की व्यवस्था की गई थी।

12 लाख की लागत से 4 महीने में हुआ तैयार
परशुराम महासभा के प्रदेश प्रभारी पं. संजय मिश्रा के मुताबिक इस रथ का वजन करीब 11 क्विंटल है। सत्यधाम आश्रम के प्रमुख महंत पं. गोरेलाल शर्मा व परशुराम महासभा के सहयोग से तैयार किया गया है। इस रथ को बनाने में सागौन और चंदन की लकड़ी का इस्तेमाल किया गया है। इसे तैयार करने में विशेष काष्ठ शिल्पियों को चार महीने का वक्त लगा है। इसे बनाने की लागत 12 लाख रुपए आई है। इस रथ को 18 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा के दिन पुष्कर में ब्रह्माजी के मंदिर को भेंट किया जाएगा।

सुबह उज्जैन के लिए रवाना हुआ रथ, कई स्थानों पर स्वागत
पं. मिश्रा के मुताबिक मंगलवार सुबह रथ का पूरे विधि-विधान के साथ पूजन किया गया। रथ में ब्रह्माजी और सावित्री जी के विग्रह विराजित है। इस दौरान कई श्रद्धालु यहां पहुंचे और रथ के दर्शन किए। जिसके बाद सुबह करीब 10 बजे रथ इंदौर से उज्जैन के लिए ट्राले पर ही रवाना हुआ। रथ के साथ इंदौर से कई श्रद्धालु भी रवाना हुए है। वे बोले इंदौर से उज्जैन के रास्ते पर कई स्थानों पर रथ का भव्य स्वागत किया जाएगा। इसके अलावा उज्जैन में भी संत व ब्राह्मण समाज द्वारा रथ के स्वागत की तैयारी की गई है।

18 को पुष्कर पहुंचेगा रथ
इंदौर से रवाना होकर रथ उज्जैन दोपहर करीब 12 बजे पहुंचेगा। जिसके बाद यहां रथ का स्वागत किया जाएगा। यहां से रथ बड़नगर के लिए रवाना होगा। बड़नगर से रवाना होकर रथ मंदसौर पहुंचेगा। जहां रात्रि विश्राम रखा गया है। 17नवंबर को रथ मंदसौर से नीमच और चित्तौड़गढ़ होकर शाम को पुष्कर पहुंच जाएगा। यहां 18 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा के दिन रथ पुष्कर के ब्रह्माजी के मंदिर को भेंट किया जाएगा, उसी दिन सरोवर घाट क्षेत्र से रथयात्रा निकाली जाएगी।

खबरें और भी हैं...