पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

इंदौर में 2 दिन और बारिश के आसार:देपालपुर में कस्तूरबा कॉलेज और हॉस्टल में भरा डेढ़ फीट पानी, दुकानों-मकानों में भी घुसा

इंदौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देपालपुर में सड़कों पर भरा पानी। - Money Bhaskar
देपालपुर में सड़कों पर भरा पानी।

दो दिन और इनमें भी खासकर रविवार को हुई बारिश ने इंदौर शहर को तर कर दिया है। दोनों दिन आधा-आधा इंच बारिश हुई। ऐसे ही सीमावर्ती क्षेत्रों में भी बारिश हुई। रविवार को देपालपुर में इतनी तेज बारिश हुई कि 3 इंच से ज्यादा बारिश हुई। इससे दुकानों-मकानों में पानी भर गया और जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। कस्तूरबा गांधी कन्या आश्रम के बरामदे तथा कॉलेज परिसर व ग्रिड दफ्तर में डेढ़़ फीट तक पानी भर गया। इस दौरान होस्टल की छात्राओं को 6 घंटे अंदर ही रहना पड़ा। मौसम विभाग ने आज और कल भी अच्छी बारिश की संभावना जताई है।

देपालपुर में घरों में इस तरह घुसा पानी।
देपालपुर में घरों में इस तरह घुसा पानी।

देपालपुर में शनिवार रात को गरज-चमक के साथ जोरदार बारिश हुई थी। एक घंटे में एक इंच से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। रविवार को मौसम साफ हुआ, लेकिन शाम होते-होते फिर मौसम एकाएक बदला और बादलों के तेज गड़गड़ाहट के साथ मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। रात को भी रिमझिम होती रही। इस दौरान यहां तिलक मार्ग स्थित दुकानों में पानी भर गया। ऐसी ही स्थिति बस स्टैंड स्थित दुकानों की रही। दुकानदार मुकेश जैन व राजेश माहेश्वरी ने बताया कि मकानों-दुकानों में पानी भरने से कई लोगों का सामान खराब हो गया। बारिश ने फिर नगर परिषद की पोल खोल दी। यहां इंदौर रोड स्थित नाला में निकासी नहीं होने से आसपास के कई घरों व दुकानों में पानी घुस गया व लोगों का सामान खराब हो गया।

गेहूं-चने की बुवाई के लिए बारिश फायदेमंद

बहरहाल, बारिश से किसानों के चेहरे पर खुशियां लौट आई क्योंकि सोयाबीन की अधिकांश फसलें कट चुकी हैं। अब गेंहू व चने की बुवाई के लिए खेतों में परेशानी नहीं होगी। किसान मोतीलाल पटेल ने बताया कि सोयाबीन की कटाई के बाद पानी अच्छा बरस गया। अब अक्टूबर आधा बीत चुका है ऐसे में इस बार चने का रकबा बढ़ेगा। किसान राजेश के मुताबिक यह बारिश किसानों के लिए अमृत है। अब हम गेंहू व चने की बुवाई ज्यादा करेंगे क्योंकि नदी-नाले, तालाब सब लबालब हो गए हैं। मौसम वैज्ञानिक डॉ. एचएल खापडिया ने बताया कि अरब सागर व बंगाल की खाड़ी के बीच साइक्लोन बनने से हवा की दिशा उत्तर की ओर होने से मप्र के कुछ जिलों में अभी नमी है जिसके चलते 18 व 19 अक्टूबर तक अच्छी बारिश होगी। हवा के रुख के कारण ही केरल में भी तेज बारिश हुई है।

खबरें और भी हैं...