पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

NDA एग्जाम की तैयारी के टिप्स:90 दिन की स्ट्रेटजी; 15 फरवरी से लगाएं मॉक टेस्ट, मार्च में करें रिवीजन

इंदौर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

NDA एग्जाम 10 अप्रैल को होना प्रस्तावित है। एग्जाम में 90 दिन से भी कम समय बचा है। ऐसे में इन दिनों में तैयारी कैसे करें। किस स्ट्रेटजी के साथ पढ़ाई करें। मॉक टेस्ट कब लगाएं, किन सब्जेक्ट्स पर ज्यादा फोकस करें। ये सब जानेंगे एजुकेशन एक्सपर्ट लखन सिंह यादव (डायरेक्टर, फोर्स डिफेंस एकेडमी) से। वह बता रहे हैं कि कैंडीडेट्स को एग्जाम से पहले किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है...

लखन सिंह यादव के मुताबिक कैंडीडेट्स के सामने चुनौती है कि उनके पास समय कम है। ये एग्जाम 900 मार्क्स का होगा। इसमें दो पेपर होते हैं। पहला मैथमेटिक्स का, जो 300 नंबर का होता। 120 प्रश्न पूछे जाते हैं। इसमें 11th और 12th क्लास के मैथ्स के सवाल पूछे जाते हैं। मैथमेटिक्स का पेपर मॉडरेट से थोड़ा ऊपर होता है, लेकिन ज्यादा डिफिकल्ट नहीं होता। स्टूडेंट्स प्रीवियस ईयर के पेपर देखें। उनके आधार पर अपना एनालिसिस करें।

दूसरा पेपर GAT का होता है, जो 600 नंबर का रहता है। यह पेपर दो हिस्सों में बंटा होता है। इसमें इंग्लिश के 200 नंबर के सवाल पूछे जाते हैं। स्टूडेंट्स मैथ्स और इंग्लिश पर अच्छे से मेहनत करें। जो बड़े सब्जेक्ट्स हैं, उनके विशेष टॉपिक्स को पढ़ें जो आपको आसान लगते हैं। ये कम समय में तैयार हो जाएंगे। स्टूडेंट्स अपना फोकस मैथ्स, इंग्लिश और फिजिक्स पर करें और करंट अफेयर पर भी ध्यान दें। स्टूडेंट्स प्रॉपर स्ट्रेटजी, एनालिसिस और प्रीवियस ईयर के पेपर देखकर तैयारी करेंगे तो निश्चित सफलता की ओर बढ़ सकेंगे।

85% कोर्स पूरा तो कैंडीडेट्स लगाए मॉक टेस्ट
एजुकेशन एक्सपर्ट यादव ने बताया कि मॉक टेस्ट न तो तैयारी के एकदम शुरुआत में लगाए जाते हैं और न ही एग्जाम के ठीक पहले। मॉक टेस्ट तब लगाएं, जब स्टूडेंट्स को कॉन्फिडेंस हो कि उसका 80-85% कोर्स पूरा हो चुका है। इससे स्टूडेंट्स को पता चलेगा कि उनकी स्थिति क्या है। स्टूडेंट्स जनवरी से 15 फरवरी तक सब्जेक्ट्स को मजबूत करें।

15 फरवरी से 28 फरवरी के बीच का जो समय है, उसमें मॉक टेस्ट दें। मॉक टेस्ट से स्टूडेंट्स अपनी परफॉर्मेंस में और निखार ला सकते हैं। मॉक टेस्ट के बाद स्टूडेंट्स के पास मार्च का समय रिवीजन के लिए रहेगा। इसमें स्टूडेंट्स रिवीजन के साथ अपने कमजोर सब्जेक्ट्स को मजबूत करने के लिए दें।

इन सब्जेक्ट्स को है समय देने की जरूरत
यादव ने कहा कि NDA एग्जाम में सब्जेक्ट्स थोड़े ज्यादा हैं। कई बार देखने में आया है कि कैंडीडेट्स अपने फेवरेट सब्जेक्ट्स को ही समय देते रहते हैं। ऐसी गलती बिल्कुल न करें। स्टूडेंट्स 3 से 4 घंटे का समय मैथ्स को दें। 2 घंटे नियमित रूप से इंग्लिश को दें। क्योंकि इंग्लिश स्कोरिंग सब्जेक्ट है। 3 से 4 घंटे का समय दूसरे सब्जेक्ट्स को करने पर फोकस करें। इस प्रकार 8 से 10 घंटे स्टूडेंट्स पढ़ें। इससे आपके मॉक टेस्ट की भी तैयारी हो जाएगी। यह स्ट्रेटजी कारगर साबित होगी।

AFCAT एग्जाम की तैयारी कैसे करें:एक्सपर्ट बोले- एग्जाम में एक महीने से कम समय; सिर्फ रिवीजन और मॉक टेस्ट पर फोकस रखें

MPPSC इंटरव्यू के टिप्स:इंटरव्यू रूम के अंदर जाते ही झलके आपका कॉन्फिडेंस, आंसर ऐसा दें कि उससे दूसरा प्रश्न न बने

AFCAT फरवरी में, ऐसे करें तैयारी:सभी सब्जेक्ट को दें बराबर वेटेज, जनरल अवेयरनेस में हिस्ट्री-जियोग्राफी, करंट अफेयर्स और आर्मी एप्टीट्यूड से आते हैं सवाल

भूल जाइए भूलने की 'बीमारी':एक्सपर्ट ने बताया- 10:1 फॉर्मूला, इसकी मदद से बनाए नोट्स; जानिए- पूरी टेक्नीक और कैसे करें लागू

MPPSC का इंटरव्यू देना है तो...:नाम से लेकर जहां रहते हैं और जहां से पढ़े, वहां की पूरी जानकारी रखें; जानिए एक्सपर्ट क्या कहते हैं

खबरें और भी हैं...