पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58592.360.17 %
  • NIFTY17406.950.06 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46149-0.06 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59920-1.88 %

शराब ठेकेदार गोलीकांड मामला:गांधी नगर में उपद्रव करने वाले 5 आरोपी गिरफ्तार, मारपीट की घटना गोली चलने के पहले या बाद में ?

इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गांधी नगर में कैमरे में कैद हुई थी घटना - Money Bhaskar
गांधी नगर में कैमरे में कैद हुई थी घटना

इंदौर में शराब कारोबारी गोलीकांड में गांधीनगर नवदापंथ में मारपीट करने वाले पांच आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। 19 जुलाई को घटना वाले दिन अर्जुन ठाकुर के लोगों ने नाम द पंच शराब दुकान पर जाकर कई लोगों को बुरी तरह सरेराह पीटा था। जिसके सीसीटीवी फुटेज भी सामने आए थे। गुरुवार रात वाइन शॉप कर काम करने सोनू, मोनू, रोहित सहित पांच को पुलिस ने पकड़ लिया, जबकि मोहित सहित कुछ फरार है।

गांधी नगर थाना टीआइ संतोषसिंह यादव के मुताबिक सतीश भाऊ और चिंटू ठाकुर गुट ने विजय नगर स्थित सींडिकेट ऑफिस में शराब कारोबारी अर्जुन ठाकुर (पाटनीपुरा) पर गोलियां चलाई थी। लेकिन इसके पूर्व उनके सहयोगी गौरव, बाबू को गांधीनगर स्थित वाइन शॉप पर अर्जुन ठाकुर के सहयोगियों ने जमकर पीटा था। पूरे मामले को वरिष्ठ अधिकारी जांच कर रहे हैं अब पकड़े गए आरोपियों से आगे की पूछताछ की जा रही है

अलग -अलग दो तर्क आए सामने

सीसीटीवी सामने आने के बाद दो अलग-अलग तरह के तर्क सामने आ रहे हैं। कुछ लोगों को कहना था, गोलीकांड के बाद यह विवाद हुआ। वहीं, पुलिस विभाग का कहना है, 19 जुलाई की सुबह सतीश भाऊ और उसके गुर्गों ने अहाते का कब्जा ले लिया था। इसके बाद अर्जुन ठाकुर के लोगों ने यह मारपीट की है। सीसीटीवी में जो समय दिखाई दे रहा है, उससे लगता है कि घटना 3:00 बजे की है, जबकि अर्जुन ठाकुर सिंडिकेट ऑफिस में करीब 3:15 पहुंचा था। करीब 3:30 बजे ऑफिस के अंदर गोली चली थी। सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद पुलिस मामले में भी जांच कर रही है। वहीं, पुलिस का कहना है, कैमरे की डेट और समय बदला हुआ हो सकता है।

इंदौर गोलीकांड के 6 दिन बाद सामने आया वीडियो:गांधी नगर में पेट्रोल पंप पर कुछ लोगों मचाया था उत्पात, अर्जुन ठाकुर और सतीश भाऊ के गुर्गे आपस में भिड़े, दो लोगों को डंडे से पीटा

अर्जुन ठाकुर ने कुछ दिन पहले विजयनगर पुलिस को आवेदन तक दिया था । जिसमे यह आरोप लगाया था कि उस पर जानलेवा हमला करवाने में पिंटू भाटिया और एके सिंह का हाथ है। पुलिस शुरू से दोनों को मुलजिम बनाने के लिए मंशा नहीं नजर आ रही। एफआईआर में केवल हेमू ठाकुर, चिंटू ठाकुर, सतीश भाऊ और अन्य लिखा। सूत्रों का मानना है कि गोलीकांड में पिंटू भाटिया और एके सिंह को बचाने के लिए नई कहानी रची जा रही है।