पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61765.590.75 %
  • NIFTY18477.050.76 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47184-1.49 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62935-0.03 %

स्टार्ट अप:झाबुआ के युवाओं का स्टार्ट अप प्रदेश के श्रेष्ठ पांच में शामिल

झाबुआएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लगातार मापदंडों के अनुरूप काम करने पर बाकी दो किस्त दी जाएगी

शहर के अब्दुल कलाम इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों का स्टार्ट अप साल 2021 के लिए प्रदेश के श्रेष्ठ पांच स्टार्ट अप में चुना गया है। हैप्पीनेस ग्रुप की शुरुआत तीन छात्रों ने दो साल पहले की थी। इसी साल फरवरी में उनके स्टार्ट अप को 1 लाख रुपए के फंड के लिए भी चुना गया था। ये राशि चार किस्तों में दी जाएगी। पहली किस्त फरवरी मिली थी और दूसरी किस्त अब उन्हें दे दी गई। लगातार मापदंडों के अनुरूप काम करने पर बाकी दो किस्त दी जाएगी।

भोपाल में राजीव गांधी प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल मंगुभाई पटेल और वाइस चांसलर सुनील गुप्ता के हाथों में ग्रुप को सम्मानित किया गया। इन छात्रों ने झाबुआ जैसे छोटे शहर में जरूरत के सभी सामान की होम डिलीवरी का स्टार्ट अप शुरू किया था। उन्हें पता था कि देश की ज्यादातर ऑनलाइन व्यापार करने वाली कंपनियां सीमित सामान की डिलीवरी करती है। कोई किराना, कोई सब्जी, कोई खाना तो कोई कुछ दूसरा सामान डिलीवर करता है। ऐसे में क्यों न ऐसा बिजनेस शुरू किया जाए, जिसमें हर तरह का सामान कम समय में घर तक पहुंचाया जाए। इस आइडिया को बिना बड़ी पूंजी के शुरू किया गया। सत्येंद्र रजक, लक्ष्य पटवा और शिवम शुक्ला द्वारा बनाए गए इस हैप्पीनेस ग्रुप काे अब हर महीने दो से ढाई लाख के ऑर्डर मिलते हैं। उनके ग्रुप को फरवरी में प्रदेश के टॉप 100 में जगह मिली थी, अब टॉप 5 में है।

युनिवर्सिटी दे रही मदद

राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय की ओर से 1 लाख रुपए की मदद के लिए उनके स्टार्ट अप को चुना गया है। पहली किश्त का चैक 19 फरवरी को भोपाल में यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ. सुनील गुप्ता ने दिया था। हैप्पीनेस ग्रुप के नाम से इस फास्ट डिलीवरी बिजनेस की शुरुआत 16 जून 2019 को की गई थी। तब इन छात्रों ने ही डिलीवरी शुरू की। वो लोगों से मोबाइल पर ऑर्डर लेते हैं और बाजार से सामान घर बैठे कम समय में पहुंचा देते हैं। लोग उनकी पसंदीदा जगह से सामान मंगवा सकते हैं। होम डिलीवरी के लिए चार्ज अलग से लेते हैं। यही उनका मुनाफा है। सतेंद्र ने बताया, आरजीपीवी उन्हें दो साल के लिए भोपाल में इन्कयूबेशन स्पेस (अपने काम को बढ़ाने के लिए जगह और ट्रेनिंग) भी मुफ्त दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...