पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Dewas
  • The Wife Used To Stay In The Hospital For 15 15 Days Citing The Work Load, Did Not Listen Even After The Husband's Explanation

बीपीओ कर्मी की हत्या:काम का लोड बताकर 15-15 दिन अस्पताल में रुकती थी पत्नी, पति के समझाने पर भी नहीं मानी

देवासएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हत्या फॉलोअप.. पति मिलने गया तो बाउंसरों ने पीटा, तब हुई शंका, पति ने प्रेमी को समझाया तो उसने ही रास्ते से हटा दिया

बीपीओ कर्मी की हत्या में मास्टर माइंड निकली पत्नी को लेकर आकाश मेडकिया के पिता यशवंत व्यथित हैं। उन्होंने भास्कर को बताया कि हम लोग उज्जैन से इंदौर शिफ्ट हो गए थे। यहां कुछ दिन बेटे और बहू की नौकरी लग गई। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान बहू ने कहा कि अचानक उसका काम बढ़ गया है, इसलिए अब वह देवास में रहेगी। उसे अस्पताल ने क्वार्टर दिया है।

15 दिन में एक बार आएगी। हम भी मान गए कि बार-बार बस से आने में बीमार पड़ सकती है, लेकिन यह उसकी चाल थी। मेरे बेटे आकाश को जब शंका हुई तो वह एक दिन अस्पताल मिलने गया तो उसे बाउंसरों ने अभद्रता करके भगा दिया। फिर उसने वर्तिका के मोबाइल से मनीष का नंबर निकाला।

दोनों को समझाया कि ऐसा ना करें। वर्तिका मान गई तो आकाश ने भरोसा कर उसे दोबारा नौकरी पर जाने दिया, लेकिन बाद फिर अफेयर का पता चला तो आकाश ने वर्तिका को समझाया। बताया कि मनीष भी शादीशुदा है, उसका 9 साल का बच्चा है। वह राजस्थान का रहने वाला है। लेकिन बहू नहीं मानी और उसने इतना बड़ा विश्वासघात कर दिया। देवास के अस्पताल में वर्तिका की बुआ अलका और उसका लड़का भी काम करते हैं। उन पर बी हत्याकांड में शामिल होने का शक है।

तलाक लेने का कहा, नहीं मानी

सीएसपी निहित उपाध्याय के अनुसार वर्तिका के मायके में पति-पत्नी में झगड़े की बात पता चली तो उन्होंने तलाक लेने की बात कही थी। तब वह बोली की पति मेरा बहुत अच्छा है, मैं उसके साथ रहूंगी। मनीष 12 को राजस्थान चला गया पुलिस को गुमराह करने के लिए मनीष अपनी मां को देखने के बहाने राजस्थान चला गया था। 15 अक्टूबर को लौटा और इस घटनाक्रम से अंजान बना रहा। आरोपियों ने बताया कि मनीष की एक लाख रुपए सैलरी थी और पद भी बहुत बढ़ा था।

मां की तबीयत खराब थी, फिर भी एएसपी तफ्तीश में जुटे रहे

सीएसपी उपाध्याय ने बताया कि रात 2 बजे तक एएसपी शशिकांत कनकने तफ्तीश में लगे थे। वे रोजाना माताजी का विशेष ध्यान रखते थे। वे मां से ज्यादा देर नहीं मिल पाए। अगले दिन उनकी मां की दुखद खबर आ गई।

खबरें और भी हैं...