पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %

राजभाषा प्रज्ञान व्याख्यानमाला:मंत्र योग मन प्रबंधन कार्यशाला में ऊं ध्वनि से नकारात्मक प्रवृत्तियों काे किया बाहर

देवासएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बैंक नोट प्रेस में राजभाषा प्रज्ञान व्याख्यानमाला के तहत मंत्र योग-मन प्रबंधन के द्वारा तनाव और दुश्चिंता निवारणार्थ कार्यशाला का आयोजन किया। जनसंपर्क अधिकारी संजय भावसार ने बताया, जीएम राजेश बंसल की प्रेरणा से वेद विज्ञान पर आधारित यह कार्यशाला ऊं ध्वनि की निश्चित आवृत्ति एवं आरोह अवरोह द्वारा मन के प्रबंधन के साथ मन की नकारात्मक प्रवृत्तियों के शमन से संबंधित थी।

इंदौर के वेद विज्ञानी आचार्य विजय रावल के व्याख्यान, मार्गदर्शन में कार्यक्रम का आयोजन किया। आचार्य ने वेद और उपनिषद के मंत्रों के साथ प्रतिभागियों को तीस मिनट का ऊं उच्चारण का विविध तरीके से अभ्यास कराकर मन प्रबंधन के साथ शान्तचित्तता की अनुभूति करवाई। आचार्य ने प्रतिभागियों की विभिन्न जिज्ञासाओं का भी शमन किया।

कार्यशाला का विषय प्रवर्तन करते हुए भावसार ने प्राचीन भारतीय विरासत की महत्ता काे बताया गया। नोबल पुरस्कार प्राप्त अमेरिकी वैज्ञानिक ओपेन हेमर ने परमाणु बम का आविष्कार भागवत गीता के अध्याय 11 के 12 वे श्लोक की प्रेरणा से किया था। आचार्य का शाॅल, श्रीफल से अभिनन्दन किया और अपर महाप्रबंधक अशोककुमार अरोरा, केएन महापात्रा ने भी आचार्य रावल के सहयोगी हेमंत शुक्ला व सुमित रावल का शाॅल, श्रीफल से अभिनन्दन कि। इस अवसर पर दिगंतकुमार डेका आदि माैजूद थे।

खबरें और भी हैं...