पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Hoshangabad
  • : 1 Thousand Cusecs Of Water Is Being Released From 5 Gates Of Tawa Dam In Hoshangabad, Water Level In Narmada Increased, Gates Opened Late By 24 Days From Last Year

सीजन में पहली बार तवा डैम के गेट खोले:7 गेट खोलकर 61 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा; नर्मदा में बढ़ने लगा जलस्तर; डैम का वाटर लेवल 1166 फीट के पार पहुंचा

होशंगाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तवा डैम के 7 गेट खोले गए।

होशंगाबाद समेत प्रदेश के कई हिस्सों में मानसून सक्रिय हो गया है। होशंगाबाद, पचमढ़ी और बैतूल क्षेत्र में जमकर बारिश हुई। इसका असर हुआ कि 3 माह बाद सीजन में पहली बार तवा डैम के 5 गेट 5 फीट तक बुधवार सुबह साढ़े पांच बजे खोले गए। 4 घंटे बाद दो और गेट खोले गए। इनसे 61 हजार 691 क्यूसेक पानी छोड़ा जा है। इसकी वजह से नर्मदा का जलस्तर बढ़ने लगा है। तवा डैम का जलस्तर सीजन में पहली बार अधिकतम जलस्तर 1166.10 फीट पहुंच गया है। नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़कर 936.80 फीट हो गया है। पिछले साल 22 अगस्त को तवा डैम के गेट खुल गए थे, लेकिन इस साल 24 दिन देरी से गेट खुल पाए हैं। डैम में 13 गेट हैं। इसी नदी पर बने सतपुड़ा डैम के गेट भी खोले गए हैं।

पचमढ़ी और बैतूल में कैचमेंट एरिया में बारिश और सारणी के सतपुड़ा डैम से पानी छोड़ने के बाद लगातार तवा डैम में जलस्तर बढ़ रहा है। जलस्तर बढ़ने से पानी ओवर फ्लो हो रहा है। शाम तक और गेट खुलने की संभावना है।

पश्चिम बंगाल की खाड़ी में बने सिस्टम के कारण मध्यप्रदेश के कई जिलों में मंगलवार पूरी रात बारिश हुई। कैचमेंट क्षेत्र बैतूल और पचमढ़ी क्षेत्रों में अच्छी बारिश की वजह से तवा डैम में जलस्तर बढ़ा। इससे तवा डैम के खोले गए है। इधर तवा का पानी आने से होशंगाबाद में नर्मदा का जलस्तर में बढ़ोतरी हुई। नर्मदा नदी का जलस्तर 937 फीट पहुंच गया, जो खतरे के निशान से 31 फीट नीचे है।

गेट खोलने से यहां पर असर पड़ेगा

तवा डैम का पानी नर्मदा नदी में जाता है। इसलिए नर्मदा का जलस्तर बढ़ेगा। इसकी वजह से होशंगाबाद, धार, आलीराजपुर, हरदा, देवास, सीहोर, रायसेन और खंडवा जिले को भी अलर्ट किया गया है।

अलर्ट... डैम के निचले क्षेत्र में न जाएं

तवा डैम में जलस्तर की बढ़ोतरी को देखते हुए तवा बांध परियोजना विभाग ने 6 दिन पहले ही अलर्ट जारी किया था। कार्यपालन यंत्री आईडी कुमरे ने कहा सभी जगह बारिश हो रही है। मंगलवार रात को होशंगाबाद समेत डैम के कैचमेंट एरिये पचमढ़ी और बैतूल में भी अधिक बारिश हुई। जिससे तवा डैम का जलस्तर 1166 फीट के अधिकतम लेवल के करीब पहुंच गया। साढ़े 5 बजे 5 गेटों को 5 फीट तक खोले गए। 10 बजे तक दो और गेट खोले गए।

लोग पहुंचे, सुरक्षा के लिए पुलिस बुलाई

तवा डैम पर गेट खुलते ही काफी संख्या में लोग पहुंचने लगे हैं। इसलिए सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। तवमगर में इटारसी, केसला, पथरौटा और रामपुर थाने से पुलिस बल बुलाया गया है।

एक के बाद एक डैम के गेट खुले

सतपुड़ा थर्मल पावर स्टेशन स्थित बांध प्रबंधन के मुताबिक सतपुड़ा बांध फुल हो गया है। तवा नदी में बढ़ते जल स्तर को देखते हुए बांध प्रबंधन ने देर रात सतपुड़ा बांध के सात गेट पांच 5 फुट खोल दिए थे । यह गेट सुबह 5:30 बजे तक पांच 5 फुट खुले रखे गए थे, जिसे सुबह 8 बजे घटाकर 1 फुट पर कर दिया गया है। वहीं देर शाम ताप्ती नदी पर स्थित चंदोरा बांध के चार गेट शाम 6 बजे खोले गए थे, जिन्हें रात 2 बजे बंद कर दिया गया। इसी नदी पर बने पारसडोह बांध के भी 2 गेट 33 सेमी देर रात खोले गए। पानी की बढ़ती आवक के बाद इन्हें बढ़ाकर 3 गेट कर दिया गया। जिन्हें भी 90 सेमी खोला गया था। सुबह 5 बजे सभी गेट बंद कर दिए गए।

चंदोरा बांध पर हड़कंप

मुलताई के पास ताप्ती नदी पर बने चंदोरा बांध पर बीते मंगलवार की देर शाम उस समय हड़कंप मच गया, जब करीबी गांव ताइखेड़ा में किसी ने अफवाह उड़ा दी कि बांध के गेट नहीं खुल रहे हैं। इसके बाद यहां दर्जनों ग्रामीण इकट्ठा हो गए और वे बांध के गेट खोलने की मांग करने लगे। बांध के कैचमेंट में हो रही लगातार बारिश से बांध का वाटर लेवल 685.71 फीट पर पहुंच गया था। इससे भी ग्रामीण घबरा गए। वहा मौजूद अधिकारियों ने ग्रामीणों को समझाया। फिर देर शाम साढ़े छह बजे इसके चार गेट खोले गए, जो रात 2 बजे के बाद बंद कर दिए गए।

MP में पहली बार 52 में से 50 जिले भीगे:हरदा में 4 इंच तो भोपाल, इंदौर में एक इंच से ज्यादा बारिश; अगले चौबीस घंटे तक प्रदेश भर में पानी

बारना और बरगी डैमों की स्थिति

  • बारना डैम: बारना डैम में जलस्तर में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई है। 6 दिन में केवल सवा फीट बढ़ा है। 10 सितंबर को जलस्तर 1137 फीट था। 15 सितंबर को 1138 फीट हो गया। दो दिन से बढ़ोतरी हो रही। 13 सितंबर को 1127 फीट था, बुधवार को पानी बढ़ा। कैचमेंट एरिए में कम बारिश की वजह से यह स्थिति बनी है।
  • बरगी डैम: नर्मदा के उद्गम क्षेत्र व बरगी डैम के ऊपरी क्षेत्र में बारिश कम हो रही है। इस वजह से धीमी गति से बरगी का जलस्तर बढ़ रहा। 5 दिन में डैम में लगभग दो फीट पानी बढ़ा है। मंगलवार को सुबह 1382 फीट जलस्तर था। बुधवार सुबह तक एक फीट बढ़कर 1383 हो गया है। इस साल बरगी डैम से एक बार भी पानी नहीं छोड़ा गया है।
  • नर्मदा नदी (सेठानी घाट): होशंगाबाद में नर्मदा नदी में तेजी से पानी बढ़ रहा है। पिछले 2 दिन में आधे फीट पानी की बढ़ोतरी हुई। 937 फीट जलस्तर पहुंच गया। नर्मदा में जलस्तर बढ़ने से एक फीट ऊंची लहरें उठ रही है। नर्मदा खतरे का निशान 967 फीट है।

होशंगाबाद में तेज बारिश, आधे शहर में ब्लैकआउट:गरज-चमक के साथ रात में एक घंटा तेज बारिश, डेढ़ इंच गिरा पानी, तवा डैम में अधिकतम से 0.90 फीट दूर जलस्तर

खबरें और भी हैं...