पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61305.950.94 %
  • NIFTY18338.550.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)478990 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629570 %

स्कूलों के ताले खुले:स्कूलों में 18 महीने बाद बजी घंटी, मौखिक सहमति लेकर स्कूल पहुंचे बच्चों को घर भेजा

मुलताईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पालकों की लिखित सहमति के बाद ही कक्षा में बैठ पाए बच्चे

कोरोना काल के चलते 18 महीने बाद सोमवार को बच्चों के लिए प्राथमिक स्कूलों के ताले खुले। पहले दिन अधिकांश बच्चे बिना बस्ते के ही स्कूल पहुंच गए थे। स्कूल आने वाले बच्चों के पास पालकों की लिखित सहमति नहीं होने पर घर भेज दिया। बच्चों को पालकों से स्कूल आने की लिखित सहमति लेकर आने की समझाइश दी गई। नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र के सभी 154 प्राथमिक स्कूल खुल गए। नगर में बच्चों के स्कूलों में पहुंचने के पहले शिक्षकों ने कमरों और परिसरों की सफाई कराई।

सुबह 10.30 बजे टेकड़े वाले स्कूल, गुरूसाहब वार्ड के प्राथमिक स्कूल सहित अन्य स्कूलों में बच्चे बिना बस्ते के पहुंच गए थे। शिक्षकों ने बच्चों को पालकों से स्कूल में आने की अनुमति लेकर आने की समझाइश देकर घर भेजा। इसके बाद कुछ बच्चे पालकों को लेकर स्कूल पहुंचे। पालकों ने बच्चों को स्कूल भेजने की लिखित सहमति दी। इसके बाद बच्चों को कक्षा में प्रवेश दिया गया। गुरूसाहब वार्ड के प्राथमिक स्कूल में सुबह 11.15 बजे तक कोई भी बच्चा स्कूल नहीं पहुंचा था। इस स्थिति में शिक्षिका बच्चों के आने का इंतजार करते रही। ब्लॉक के प्राथमिक स्कूलों में 6 हजार 42 बच्चे दर्ज है। जिसमें से 1 हजार 873 बच्चे उपस्थित हुए।

बीईओ ने स्कूलों में पहुंचकर देखी व्यवस्था

कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए स्कूल शुरू किया जाना है। स्कूल खुलते ही बीईओ पी कुंभारे ने ग्राम कामथ सहित नगर के प्राथमिक स्कूलों का निरीक्षण किया। बीईओ पी कुंभारे ने बताया स्कूल में बच्चों के लिए जगह-जगह हाथ धुलाई के लिए साबून, पानी और सैनेटाइजर रखने, मास्क लगाकर नहीं आने वाले बच्चे को स्कूल से मास्क देने, सोशल डिस्टेंस का पालन कराने सहित अन्य के बारे में दिशा निर्देश दिए गए। स्कूल में आने वाले बच्चे को पालकों की लिखित सहमति लाना जरूरी है।

खबरें और भी हैं...