पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

पहल:60 गरीब बच्चों काे स्टेशनरी, कपड़े, जूते, चप्पल व राशन बांटा

हरदाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरदा। जाॅय अाॅफ गिविंग में बच्चों काे जरूरत की सामग्री देते हुए। - Money Bhaskar
हरदा। जाॅय अाॅफ गिविंग में बच्चों काे जरूरत की सामग्री देते हुए।
  • सेवकाें की पहल से मिली जरूरत की सामग्री, दशहरे की पूर्व संध्या पर किया वितरण

शहर की गरीब बस्तियों के करीब 60 बच्चों के लिए दशहरे की पूर्व संध्या यादगार बन गई। विवेकानंद काॅलेज के एनएसएस के विद्यार्थियों ने समाज के विभिन्न लाेगाें की मदद से दैनिक उपयोग व पढ़ाई लिखाई की सामग्री जुटाई। जिसका गुरुवार शाम काे सादे कार्यक्रम में ज़रुरतमंद बच्चों काे वितरण किया। बच्चों की मदद के लिए एनएसएस की टीम ने करीब 10 दिन अभियान चलाकर सामग्री एकत्रित की।

गुरुवार काे इंदाैर राेड स्थित एक एनजीओ के ऑफिस में जाॅय ऑफ गिविंग के तहत सामग्री वितरण कार्यक्रम हुअा। इसमें शहर की गरीब बस्तियों के करीब 60 बच्चों काे बुलाया। जिन्हें टीम ने लोगों की मदद से जुटाई स्टेशनरी, कपड़े, जूते, चप्पल, कच्चा राशन व जरूरत का अन्य सामान दिया।

इस माैके पर विवेकानंद काॅलेज की प्राचार्य डाॅ. संगीता बिले ने कहा कि अपने लिए सभी जीते हैं। सही मायने में इंसान वही है, जाे औराें के लिए जीता है। जिसके पास बुनियादी जरूरत का सामान नहीं रहता है। उसकी मदद करना ही असली इंसानियत है। एनएसएस की छात्रा इकाई प्रभारी डाॅ. रश्मि सिंह ने बच्चों काे काेविड के संक्रमण से बचाव के लिए सफाई से रहने के लिए प्रेरित किया।

सुरक्षा के लिए छाेटे छाेटे घरेलू टिप्स दिए। एनएसएस के छात्र इकाई अधिकारी डाॅ. सीपी गुप्ता ने कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं, उनकी बेहतर देखभाल और जरुरतों की पूर्ति समाज की नैतिक जिम्मेदारी है। संस्था के अशाेक सेजकर ने सभी से आग्रह किया कि आने वाले दिनाें में दिवाली का त्याेहार आएगा।

इससे पहले हम ऐसा प्रयास करें, जिससे इस दिन हमारे घर के आसपास के गरीब बस्तियों में भी खुशियों की राेशनी फैलाने में हम मददगार साबित हाे सकें। कार्यक्रम में नेहा राठाैर, पंकज गार्गे, दीपाली गुर्जर, रामकिशाेर सेठमने, नेहा साेनेर, कीर्ति चावले आदि माैजूद रहे।

खबरें और भी हैं...