पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Used To Steal Expensive Clothes, Branded Shoes And Drug Addiction, Used To Pick Up The Vehicle In The Blink Of An Eye

ग्वालियर पुलिस के हत्थे चढ़े 2 चोर:लग्जरी लाइफ और लड़कियों के सामने स्टाइल मारने के लिए चुराने लगे बाइक, 5 गाड़ियां मिलीं

ग्वालियरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाहन चोरों से बरामद चोरी की पांच बाइक। - Money Bhaskar
वाहन चोरों से बरामद चोरी की पांच बाइक।

शहर में वाहन चोरी कर भिंड, मुरैना में ठिकाने लगाने वाले दो शातिर वाहन चोरों को पुलिस ने पकड़ा है। नशे की लत और लड़कियों को दिखाने के लिए ब्रांडेड जूते, महंगे कपड़े खरीदने के लिए वाहन चोरियों को अंजाम देते थे। इंदरगंज पुलिस को दो वाहन चोरों से 5 बाइक मिली हैँ। हाल में दो दर्जन से ज्यादा बाइक चोरी करने की आशंका है।

शनिवार शाम पुलिस को भैंस मंडी के पास चोरी की बाइक बेचने की डील होने का पता लगा। पुलिस पहुंची तो दो अलग-अलग बाइक पर सवार युवक पुलिस को देखते ही भागने लगे। इस पर पुलिस उनको बाइक मोड़कर भागने से पहले ही पकड़ लिया। पकड़े गए बाइक सवार वाहन चोर निकले हैं। पहचान अकबरपुर मोतीझील निवासी इरफान पुत्र हसन खान और पुरानी छावनी के हीरा नगर निवासी अंकित उर्फ गोलू पुत्र दीपक खटीक के रूप में हुई।

पलक झपकते ही उठा ले जाते हैं बाइक
पकड़े गए वाहन चोरों ने पुलिस को बताया है कि उनको जो बाइक पसंद आ जाए, उसे वह पलक झपकते ही उठा ले जाते हैं। ज्यादातर वह बाजार, कोचिंग सेंटर और मल्टी की पार्किंग से वाहन चोरी करते हैं। वाहन चोरों ने बताया कि वह उन वाहनों को टारगेट करते हैं, जिनमें व्हील लॉक न लगा हो, क्योंकि उनको मास्टर चाबी से आसानी से उठा लिया जाता है।

ब्रांडेड कपड़े, जूते के शौक ने बनाया चोर
दोनों युवकों के चोर बनने के पीछे उनके नशे की आदत और महंगी लाइफ स्टाइल है। दोनों स्मैक का नशा करते हैं। नशा होने के बाद वह शहर में वाहन चोरी करने निकलते हैं। लड़कियों के सामने स्टाइल मारने के लिए उनको चमकती बाइक, महंगे कपड़े और ब्रांडेड जूते चाहिए होते थे। यहीं से उनको चोर बनने की कहानी शुरू होती है। पहले एक बाइक चोरी की उसे मुरैना में सस्ते में बेच दिया। पकड़े नहीं गए तो फिर वाहन चोरी करते चले गए।

5 से 6 हजार रुपए में बेच देते थे नई बाइक
यह शहर से बाइक चोरी करने के बाद उसे भिंड, मुरैना के देहात इलाकों में 5 से 6 हजार रुपए में बेच देते थे। इसके बाद उन्हें इससे कोई मतलब नहीं होता था। इस मामले में थाना प्रभारी इंदरगंज मिर्जा आसिफ बेग का कहना है कि इन दोनों वाहन चोरों से शहर के अन्य इलाकों में हुई वाहन चोरी के संबंध में पूछताछ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...