पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Used To Cheat People Coming From Outside Around The Hospital In The Name Of Taking Out Lucky Draw, Gang Belongs To Agra In UP

ग्वालियर में ठगों का इंटरस्टेट गैंग पकड़ा:हॉस्पिटल के बाहर लकी ड्रॉ निकालकर करते थे ठगी, UP में 9 मामले दर्ज, MP में पहली बार पकड़े

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पकड़े गए ठग। इन्होंने शहर में 15 वारदात करना कुबूल की हैं। - Money Bhaskar
पकड़े गए ठग। इन्होंने शहर में 15 वारदात करना कुबूल की हैं।

ग्वालियर पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। हॉस्पिटल के बाहर खड़े होकर अन्य शहरों व प्रदेश से आने वाले लोगों को लकी ड्रॉ निकालकर इनाम जीतने के नाम पर ठगी करने वाले 4 बदमाश पकड़े हैं। इंटरस्टेट गैंग के सभी सदस्य उत्तर प्रदेश के आगरा में शाहगंज के रहने वाले हैं। यह शहर में 15 से ज्यादा वारदात कर चुके हैं। पर MP पुलिस इनको पहली बार पकड़ पाई है। UP के आगरा-मथुरा में इन पर 9 अपराधिक मामले दर्ज हैं। जिनमें हत्या के प्रयास जैसे गंभीर मामले भी शामिल हैं। इनके पास से 40 हजार रुपए, बाइक व एक साइकिल भी बरामद हुई है। पुलिस अभी पूछताछ कर रही है।
शहर के झांसी रोड स्थित चेतकपुरी बसंत विहार में गालव हॉस्पिटल में पत्नी का इलाज कराने आए एक व्यक्ति से कुछ बदमाशों द्वारा 7 सितंबर की शाम हॉस्पिटल के पास ही लकी ड्रॉ निकालने के बहाने 55 हजार रुपए की धोखाधड़ी की थी। जिस पर से थाना झांसी रोड में चार अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया। उक्त ठगी की घटना की गंभीरता को देखते हुए SP ग्वालियर अमित सांघी द्वारा थाना प्रभारी झांसी रोड को आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी करने के निर्देश दिए। ASP राजेश दण्डौतिया एवं CSP रत्नेश सिंह तोमर के निर्देशन में पुलिस द्वारा घटना के बाद मिले CCTV फुटेज एकत्रित कर छानबीन शुरू की। मंगलवार को पुलिस को एक हॉस्पिटल के बाहर गैंग के खड़े होने की सूचना मिली थी। जिस पर पुलिस ने घेराबंदी कर चार बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इनकी पहचान गोपाल गोस्वामी, मनीष, तनुज व जगदीश गोस्वामी हैं। सभी एक ही जाति और परिवार के सदस्य है। इनके पास से 40 हजार रुपए, बाइक व एक साइकिल भी मिली है। पूछताछ में चारों ठग आगरा उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। जब पुलिस ने इनसे पूछताछ की तो इन्होंने शहर में 15 वारदातों को करना कुबूल किया है। अब पुलिस पड़ताल कर रही है कि यह कौन-कौनसी वारदात है। यह भी हो सकता है कि कुछ मामले में फरियादी बाहर के होने के कारण थाने तक भी नहीं पहुंचे हो।
इस तरह हुआ था युवक ठगी का शिकार
- फरियादी विजयराम प्रजापति निवासी मानकापुरा गोरमी जिला भिण्ड ने पुलिस को आकर बताया था कि पत्नी महादेवी को इलाज कराने गालव हास्पिटल बसंत विहार चेतकपुरी ग्वालियर में भर्ती कराया था। उसी दिन शाम करीब 4.30 बजे हॉस्पिटल के बाहर एक साइकिल वाला आया और अपनी साइकिल कुछ दूरी पर खड़ी कर इशारे से मुझे अपने पास बुलाया। उसके बाद एक ऑटो से तीन व्यक्ति आए जो साइकिल वाले व्यक्ति से 20-20 रुपए में पर्चियां लेकर लकी ड्रॉ निकालने लगे और रुपए जीतने लगे। इसी समय उनको देखकर साइकिल वाले व्यक्ति के कहने पर उसके झांसे में आकर उन व्यक्तियों के लिए लकी ड्रॉ की पर्ची खींची तो वह 150 रुपए जीत गया। इसके बाद साइकिल वाले ने मुझसे पूछा तुम्हारे पास कितने पैसे हैं तो उसने बताया कि मेरे पास 55 हजार रुपए हैं। उसके कहने पर मैंने उसको पांच हजार रुपये दे दिए। पता नहीं उसके बाद उन्होंने क्या किया कि मैंने अपने पास रखे 50 हजार रुपये और उसको दे दिये। उसके बाद वह चारों व्यक्ति वहां से निकल गए। मैं अकेला हक्का-बक्का खडा रह गया। चारों लोगों ने मेरे साथ धोखाधड़ी कर मेरे 55 हजार रुपए हड़प लिए।

खबरें और भी हैं...