पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • The Dead Body Of The Innocent Was Kept On The Ground, Crying Mother Said My Kayu Had Not Even Seen The World Yet, Son Wake Up And Why Is He Angry

ग्वालियर में 2 साल की बच्ची की मौत:कचरा गाड़ी ने कुचला; शव देखकर मां की एक ही पुकार- उठ जा बेटा, क्यों रूठी है...

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्वालियर में कचरा वाहन से कुचलकर 2 साल की बच्ची की मौत के बाद मां का रो-रोकर बुरा हाल है। जब बच्ची का शव घर पहुंचा, तो वह उसे देखकर फफक पड़ी। मां बार-बार बेसुध हो रही थी। रोते हुए मुंह से यही पुकार निकल रही थी, बेटा उठ जा, क्यों रूठी है...मेरी कायू ने तो अभी दुनिया भी नहीं देखी थी। भगवान बच्ची पर दया कर देता। परिजन और पड़ोसी समझा रहे थे, लेकिन नेहा को विश्वास नहीं हो रहा था कि उसकी बेटी अब नहीं रही। शनिवार दोपहर बाद बच्ची के शव का अंतिम संस्कार किया गया।

मासूम कायू जिसने अभी दुनिया को ठीक से समझा भी नहीं था।
मासूम कायू जिसने अभी दुनिया को ठीक से समझा भी नहीं था।

यह है मामला
कैलाश टॉकीज गंगवाल कोठी के पास मल्टी में रहने वाले आशु उर्फ अंशुल अग्रवाल व्यवसायी हैं। सराफा बाजार में उनकी ज्वेलरी शॉप है। अंशुल की दो बेटियां अभव्या (5) और कायू अग्रवाल (2 साल) हैं। कायू की शनिवार सुबह हादसे में दर्दनाक मौत हुई है। सुबह नगर निगम के कचरा कलेक्शन का वाहन घर के दरवाजे पर खड़ा था। कायू की मां नेहा कचरा फेंकने आई थी। उनके साथ में बेटी भी थी। उन्होंने वाहन में कचरा डाला और अंदर जाने लगीं, पर मासूम कायू कब पैदल-पैदल चलकर कचरा कलेक्शन वाहन के ड्राइवर साइड वाले पहिए के पास आकर खड़ी हो गई, किसी को पता नहीं चला।

कचरा लेने के बाद कलेक्शन वाहन चालक युसूफ खान ने गाड़ी आगे बढ़ा दी। आगे के पहिए से टकराकर मासूम नीचे गिरी और पहिया ऊपर से गुजर गया। जैसे ही, बच्चे के रोने की आवाज और चालक को लगा कि कुछ पहिए के नीचे आया है, उसने गाड़ी को रोका, लेकिन तब तक पिछला पहिया भी उसके ऊपर से गुजर गया था। जब तक वाहन रोककर युसूफ उतरा, बच्ची तड़प रह थी। उसे देखकर तत्काल परिजन घबरा गए। आरोपी वाहन चालक ने बच्ची को उठाकर उसकी मां की गोद में दिया और उसी गोद में उसने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें

कचरा गाड़ी ने मासूम को कुचला VIDEO:ग्वालियर में 2 साल की बच्ची के ऊपर से गुजरी गाड़ी; मां की गोद में निकली जान

जिस गोद में रोज खेलती थी उसी में दम तोड़ा
कायू रोज मां की जिस गोद में खेलती थी, उसी गोद में शनिवार को तड़पते हुए दम तोड़ दिया। मां को बार-बार यही अफसोस हो रहा था कि मेरी कायू कब गाड़ी के आगे पहुंच गई। पता ही नहीं चला। जब बच्ची का शव घर के फर्श पर रखा था, तो उसे देखकर नेहा बार-बार रोते हुए कहती रही, उसने अभी दुनिया भी नहीं देखी थी। इसके बाद वह कई बार बेसुध हुई।

हादसे के बाद कायू को देखने सबसे पहले उसकी बड़ी बहन अभव्या पहुंची।
हादसे के बाद कायू को देखने सबसे पहले उसकी बड़ी बहन अभव्या पहुंची।

बड़ी बहन अभव्या के सामने हुआ हादसा
मासूम कायू के कुचलने के समय उसकी मां कचरा डालने के बाद अंदर की ओर चली गई थी, लेकिन बड़ी बेटी और बड़ी बहन अभव्या गेट पर ही खड़ी थी। जैसे ही, बच्ची कुचली और कचरा कलेक्शन वाहन के चालक साजिद उर्फ युसूफ ने उसे गोद में उठाया, तो सबसे पहले अभव्या ही उसे लेने पहुंची थी। तड़पती बहन को देखकर वह भी विचलित हो गई थी। उसे भी रोना आ गया था। मासूम को यह नहीं पता था कि उसकी बहन हमेशा के लिए उससे दूर चली गई है।

बेटों की तरह करते थे प्यार
आसपास रहने वालों ने बताया है कि अंशुल अग्रवाल की दो बेटियां थीं। दोनों बेटियों को वह बेहद लाड़ करते थे, बेटियों को कभी बेटों से कम नहीं समझा। कायू तो घर की लाड़ली थी। वह थी भी चंचल, जब भी दरवाजा खुला दिखता था, तो वह बाहर निकल आती थी। घटना के समय भी यही हुआ।

यह भी पढ़ें :

मिलिए IPL प्लेयर अय्यर के परिवार से, जो बताते हैं कि कैसे इंडिया के हारने पर बीमार पड़ गया था बेटा

खबरें और भी हैं...