पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • In 9 Months, 25 Including 13 Children Were Brought Home, The Lives Of 6 Passengers Who Fell From The Platform And Train Were Saved.

आरपीएफ की बहादुरी:9 माह में 13 बच्चों सहित 25 को घर पहुंचाया, प्लेटफार्म व ट्रेन से गिरेे 6 यात्रियों की बचाई जान

ग्वालियरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्वालियर स्टेशन पर आरपीएफ के जवान रेलवे की संपत्ति के साथ यात्रियों की जान की भी कर रहे हिफाजत

आरपीएफ जवानों की सक्रियता से पिछले 9 माह में 31 परिवारों की खुशी लौटीं। घर से भागकर स्टेशन पहुंचे 8 नाबालिग बच्चे और 5 लड़कियाें सहित 25 लाेगाें काे जवानाें ने न सिर्फ उनके घर पहुंचाया, बल्कि 7 महिलाएं जो परिजनों से विवाद होने पर जान देने के लिए स्टेशन पर ट्रेन के सामने कूदने आईं थीं, उनकी जान बचाई।

इसी तरह 5 मानसिक बीमार लोगों के मिलने पर उनके परिजनों को सूचित कर सौंपा। वहीं 6 यात्री ऐसे हैं जो ट्रेन में चढ़ने के दौरान प्लेटफार्म और ट्रेन के बीच में फंस गए। ऐसे यात्रियों की जान बचाई और समय पर इलाज दिलवाया।

4 मामले...आरपीएफ के जवानों की मुस्तैदी से इन यात्रियों की बची जिंदगी

1.ट्रेन से कटने आई महिला कांस्टेबल ने बचाई जान

गोहद निवासी रितिका (बदला हुआ नाम) 24 मार्च को पति से झगड़कर जान देने के लिए स्टेशन पहुंची। आगरा एंड में ट्रेन के आने का इंतजार कर रही रितिका को आरपीएफ की कांस्टेबल पिंकी यादव ने टोका तो वह रोने लगी। पूछने पर बताया कि पति से झगड़ा होने के बाद वह ट्रेन के सामने कूदकर जान देने के लिए आई थी। इस दौरान महिला कांस्टेबल समझा कर महिला को थाना ले गई जहां परिजन को बुलाकर सौंप दिया।

2.प्लेटफार्म और ट्रेन के बीच में फंसी यात्री, बचाई जान

शिवपुरी जिले की निवासी धनकुंवर 25 जुलाई को पंजाब मेल से ग्वालियर से भुसावल जा रही थी। चलती ट्रेन में चढ़ने के दौरान उसका पैर फिसल गया और वह प्लेटफार्म अाैर ट्रेन के बीच में फंस गई। इस दौरान आरपीएफ की महिला कांस्टेबल मधुबाला ने उसे देखा तो दौड़कर मौके पर पहुंची और महिला को हाथ पकड़कर बाहर खींच लिया। इस तरह महिला कांस्टेबल की मुस्तैदी से यात्री की जान बच गई।

3.मॉडल बनने भागी नाबालिग को स्टेशन पर पकड़ा
बटेश्वर निवासी नाबालिग लड़की 12 मार्च को पंजाब मेल से आगरा से मुंबई ट्रेन से जा रही थी। वह मॉडल बनने के लिए घर से भागी थी। वह पिता के 1.47 लाख रुपए चोरी करके लाई थी। आगरा आरपीएफ द्वारा कंट्रोल के माध्यम से उसके गायब होने की सूचना दी। आरपीएएफ ने ट्रेनांे में सर्च अभियान चलाया और नाबालिग को पकड़ लिया। इसके बाद उसे परिजन के हवाले कर दिया।

ट्रेन में चढ़ने के दौरान गिरी हाथ कटा पर जिंदगी बची

14 अगस्त को मद्रास राजधानी एक्सप्रेस से एक आर्मी जवान पत्नी के साथ दिल्ली जा रहे थे। इस दौरान महिला प्लेटफार्म पर कुछ खरीदने के लिए उतर गईं तभी ट्रेन चल दी। दौड़कर ट्रेन में चढ़ने के दौरान उनका संतुलन बिगड़ गया और वह ट्रेन और प्लेटफार्म के बीच में फंस गईं। प्लेटफार्म पर ड्यूटी कर रहीं आरपीएफ की कांस्टेबल ने दौड़कर उन्हें बाहर निकाला। हालांकि उनका इस घटना में महिला का हाथ कट गया।

स्टेशन पर जवानों की मुस्तैदी से बचीं कई जिंदगियां

आरपीएफ के जवान मुस्तैदी के साथ प्लेटफार्म पर ड्यूटी करते हैं। इसी का नतीजा है कि पिछले 9 माह के दौरान 25 बच्चे, लड़कियां और महिलाओं की जिंदगी बचाई है और उनके परिजन को सौंपा है। इसके साथ ही 6 ऐसी घटनाएं हुईं, जिनमें यात्री ट्रेन में चढ़ने के दौरान प्लेटफार्म और ट्रेन के बीच में फंस गए, ऐसे यात्रियांे की जान आरपीएफ ने बाहर निकालकर बचाई। जरूरतमंद को इलाज के लिए अस्पताल तक भिजवाया।
-अजय कुमार, थाना प्रभारी, आरपीएफ

खबरें और भी हैं...