पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

एनसीआरबी 2020 की रिपोर्ट में खुलासा:बुजुर्गों-महिलाओं पर अपराध के मामले में ग्वालियर बड़े शहरों में दूसरे नंबर पर

ग्वालियर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बुजुर्गों पर अपराध में आंध्रप्रदेश का विजयवाड़ा और महिला अपराधों के मामले में भोपाल देश में नंबर वन

बुजुर्गों और महिलाओं पर होने वाले अपराधों के मामले में ग्वालियर बड़े शहरों (34 मेट्रोपॉलिटन सिटीज) में दूसरे नंबर पर है। बुजुर्गों पर सबसे अधिक अपराध आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में दर्ज हुए हैं। बड़ोदरा तीसरे नंबर पर और राजकोट चौथे नंबर पर है। महिला अपराध में भोपाल के बाद ग्वालियर, दूसरे नंबर पर है। महिला अपराध में ग्वालियर में वर्ष 2019 की तुलना में 2020 प्रकरण कम हुए हैं लेकिन फिर भी दूसरे नंबर पर है। यह आंकड़े नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में सामने आए हैं।

ग्वालियर में 2018 में बुजुर्गों से संबंधित अपराधों के 149 मामले दर्ज हुए। 2019 में ये मामले 168 और 2020 में 169 थे। इन मामलों में देश की बड़े शहरों में नंबर वन विजयवाड़ा है लेकिन वहां यह मामले लगातार कम हुए हैं 2018 में वहां पर इन मामलों की संख्या 514 थी। भोपाल में बुजुर्गों पर अपराध के मामले 58 दर्ज हुए हैं। महिला अपराध के मामलों में ग्वालियर में 2020 में 1135 मामले दर्ज किए गए हैं, 2019 में इनकी संख्या 1162 थी। 2018 में महिलाओं पर 1004 आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे, जो इन तीन वर्ष की तुलना में सबसे कम थे।

हत्या में 11वें, अपहरण में 6वें नंबर पर, यह मामले पिछले वर्ष से कम
बड़े शहरों में दर्ज हत्या के मामलों में ग्वालियर 11 वें नंबर पर हैं, 2020 में ग्वालियर में हत्या के 36 मामले दर्ज हुए। 2019 में 41 और 2018 में 51 मामले थे। देश में हत्या के सबसे अधिक 61 मामले फरीदाबाद में दर्ज हुए। अपहरण के मामलों में ग्वालियर 6 वें नंबर पर रहा। वर्ष 2020 में यहां 198 मामले दर्ज किए गए। विगत वर्ष 406 की तुलना कम रहे।

महिलाओं संबंधी अपराधों को रोकने के लिए जागरुकता शिविर लगाएंगे
महिला संबंधी अपराधों के मामलों में पुख्ता विवेचना कर आरोपियों को सजा दिलाएंगे। जागरूकता के लिए शिविरों की संख्या बढ़ाई जाएगी। वृद्धों व महिलाओं के मामलों की वरिष्ठ अधिकारियों से समीक्षा कराई जाएगी। आरोपियों को सजा दिलाए जाने से भी प्रकरणों की संख्या कम होगी। -अविनाश शर्मा, महानिरीक्षक, ग्वालियर जोन

खबरें और भी हैं...