पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • First Driven Small Passenger Vehicles, Then Became Conductors In Smart Buses, Now Women Doing Night Shift Duty In The Factory

बदलता ग्वालियर:पहले छोटे सवारी वाहन चलाए, फिर स्मार्ट बसों में कंडेक्टर बनीं, अब फैक्ट्री में नाइट शिफ्ट में ड्यूटी कर रहीं महिलाएं

ग्वालियर4 महीने पहलेलेखक: इमरोज खान
  • कॉपी लिंक
मालनपुर स्थित फैक्ट्री में नाइट शिफ्ट में कार्य करती महिलाएं। - Money Bhaskar
मालनपुर स्थित फैक्ट्री में नाइट शिफ्ट में कार्य करती महिलाएं।
  • मालनपुर स्थित निजी कंपनी ने की शुरुआत, पायलट प्रोजेक्ट में 3 महिलाओं ने की ड्यूटी, अब 17 कर रहीं

एक समय था जब महिलाएं रात में निकलने से डरती थीं, लेकिन अब तस्वीर बदल रही है। ग्वालियर की महिलाओं ने वीरांगना एक्सप्रेस (छोटे सवारी वाहन) चलाईं। इसके बाद स्मार्ट सिटी की बसों में कंडेक्टर बनीं और अब वह फैक्ट्री में नाइट शिफ्ट में ड्यूटी कर रही हैं। इस बदलाव की शुरुआत मालनपुर स्थित एक निजी कंपनी से हुई है।

महिलाओं की नाइट शिफ्ट में ड्यूटी के लिए फैक्टरी में कई बदलाव किए गए। शुरुआत 3 महिलाओं से हुई और सवा साल इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चलाया गया। इसका रिव्यू करने के बाद इसे लागू कर दिया गया है। फैक्ट्री में 17 महिलाओं का रोस्टर बनाया गया है, जो जनरल शिफ्ट (दिन) और नाइट शिफ्ट में ड्यूटी कर रही हैं।

विजिट में अभिभावकों ने देखी सुरक्षा, तब हां की

कंपनी के एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट एचआर अविनाश मिश्रा बताते हैं कि काम आसान नहीं था। अभिभावकों को बेटियों की चिंता थी। इसलिए हमने उन्हें कैंपस विजिट करवाई। उन्होंने सुरक्षा व्यवस्था देखी और उसके बाद बेटी को नाइट शिफ्ट करने की इजाजत दी। नर्सिंग फीमेल स्टाफ भर्ती किया। पुरुष वर्कर को ट्रेनिंग दी।

अभिभावकों ने व्यवस्थाएं देखने के बाद काम की दी परमिशन
मुझे यहां ढाई साल हो गए हैं। जब मैंने अभिभावकों को नाइट शिफ्ट के बारे में बताया तो उन्होंने यहां विजिट की। सुरक्षा व्यवस्था से संतुष्ट होने के बाद मुझे परमिशन मिली। -प्रियंका राज, ऑफिसर ओ-1

दिन में बस से ऑफिस जाती थी, अब घर लेने आती है कैब

जनरल शिफ्ट (दिन) के लिए मैं बस में ही ऑफिस जाती थी, लेकिन जब से नाइट में शिफ्ट लगती है। तबसे मुझे कैब घर लेने आती है और छोड़ने भी जाती है। -संगीता यादव, ऑफिसर ओ-1

शुरुआत में नर्वस थी, नाइट शिफ्ट अब रुटीन बन गया है

मैं सोप ऑपरेशन में हूं, जहां पूरा टेक्निकल पार्ट देखना होता है। शुरुआत में नर्वस थी, लेकिन अब नाइट में ड्यूटी करना रुटीन में शामिल हो गया है। -रीना सिंह, ऑफिसर

कंपनी की ओर से यह बदलाव किए गए

  • नया रेस्ट हाउस बनाया। नाइट शिफ्ट में काम के दौरान कोई परेशानी हो तो महिलाएं वहां आराम कर सकें।
  • स्पेशल कैब शुरू की, जो घर तक लेने जाती है और छोड़कर आती है। इसमें नाइट ड्यूटी वाली महिला वर्कर के लिए है।
  • हर 2 महीने में महिला वर्कर और उनके अभिभावकों से फीडबैक लिया जाता है।
  • शिकायती कमेटी बनाई। इसमें टॉप मैनेजमेंट सहित 5 लोग शामिल हैं।
  • फैक्टरी में रोजाना शिफ्ट रहती हैं। पहली सुबह 6 से दोपहर 2 बजे तक, दूसरी दोपहर 2 से रात 10 बजे और तीसरी रात 10 से सुबह 6 बजे तक। तीनों शिफ्ट में महिला वर्कर ड्यूटी करती हैं।
खबरें और भी हैं...