पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %

अवमानना याचिका पर सुनवाई:हाई कोर्ट में कलेक्टर ने बताया- शहर में डेंगू के 122 मरीज, इसमें भी सिर्फ 22 भर्ती

ग्वालियर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य केंद्र में दी जा रही सुविधा का ब्यौरा मांगा। - Money Bhaskar
स्वास्थ्य केंद्र में दी जा रही सुविधा का ब्यौरा मांगा।

कई बार अवसर देने के बाद भी जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग डेंगू की रोकथाम के लिए कार्ययोजना नहीं बना पाया है। अवधेश भदौरिया की अवमानना याचिका पर सोमवार को हुई सुनवाई में कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने शपथ पत्र देकर बताया- शहर में डेंगू के केवल 122 मरीज हैं। इसमें भी केवल 22 मरीज ही अस्पताल में भर्ती हैं।

जयारोग्य और कमलाराजा चिकित्सालय में डेंगू के मरीजों के लिए कुल 115 पलंग आरक्षित किए गए हैं। ये भी बताया गया कि ग्वालियर जिले में कुल 25 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। इनमें से 9 में मरीजों को भर्ती करने की सुविधा है। इस पर हाई कोर्ट ने स्वास्थ्य विभाग को प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र पर मरीजों को दी जा रही सुविधा की विस्तार से जानकारी देने का आदेश दिया। मामले की अगली सुनवाई अब जनवरी के पहले सप्ताह में होगी।

दरअसल, कुछ वर्ष पूर्व हाई कोर्ट ने डेंगू की रोकथाम के संबंध में दिशानिर्देश दिए थे। आदेश का पालन नहीं होने पर अवधेश भदौरिया ने अवमानना याचिका दायर की। हाई कोर्ट के आदेश पर कलेक्टर ने जवाब पेश करते हुए बताया कि 1 जनवरी से लेकर अब तक ग्वालियर जिले के 384677 घरों के 1765823 कंटेनरों का सर्वे किया गया। इसमें से 14138 घरों के 16905 कंटेनरों में डेंगू का लार्वा मिला।

जवाब में ये भी बताया गया कि डेंगू के सर्वे कार्य के लिए शहरी क्षेत्र में ढाई हजार की आबादी पर एक आशा कार्यकर्ता तैनात की गई है, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 200 से लेकर 2000 की आबादी पर एक आशा कार्यकर्ता को पदस्थ किया गया है। कलेक्टर के जवाब को रिकार्ड पर लेते हुए हाई कोर्ट ने अब स्वास्थ्य केंद्रों के संबंध में जानकारी चाही है।

खबरें और भी हैं...