पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481200.43 %
  • SILVER(MCX 1 KG)655350.14 %

एमपी बोर्ड का रिजल्ट:12वीं में सभी 23,829 विद्यार्थी पास, कॉलेजों में 8,898 ज्यादा एडमिशन होंगे

ग्वालियर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उत्कृष्ट स्कूल के प्रथमश्रेणी में उत्तीर्ण विद्यार्थी शिक्षकों के साथ खुशी मनाते हुए। - Money Bhaskar
उत्कृष्ट स्कूल के प्रथमश्रेणी में उत्तीर्ण विद्यार्थी शिक्षकों के साथ खुशी मनाते हुए।
  • हाईस्कूल के बाद अब हायर सेकंडरी की भी मेरिट लिस्ट जारी नहीं की

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने हायर सेकंडरी का रिजल्ट घोषित कर दिया है। इस बार सभी विद्यार्थी उत्तीर्ण घोषित किए गए हैं। हाईस्कूल के परीक्षा परिणाम के आधार पर यह रिजल्ट घोषित किया गया है। ग्वालियर जिले में 23,829 विद्यार्थी हायर सेकंडरी की परीक्षा के लिए रजिस्टर्ड थे, सभी को उत्तीर्ण घोषित किया गया है।

पिछले साल 25,664 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे इनमें से 14,931 विद्यार्थी पास हुए थे। पिछले साल की अपेक्षा इस साल 8,898 विद्यार्थी पिछले साल की अपेक्षा कॉलेजों में ज्यादा पहुंचेंगे। कोरोना से इस बार हायर सेकंडरी की परीक्षा आयोजित नहीं की गई थी। विद्यार्थियों को हाईस्कूल के परीक्षा परिणाम के आधार पर अंक देकर पास कर दिया गया। इस बार किसी भी विद्यार्थी को फेल या पूरक नहीं दी गई है। शहर के कुछ प्रमुख स्कूलों ने अपने विद्यार्थियों का परीक्षा परिणाम इकट्‌ठा कर प्रथम और द्वितीय श्रेणी में पास हुए विद्यार्थियों को डेटा तैयार किया है लेकिन शाम को वेबसाइट का सर्वर डाउन होने और शिक्षकों के सामूहिक अवकाश पर होने की वजह से रिजल्ट का डेटा तैयार नहीं हो पाया।

जिले के 12 सरकारी कॉलेजों में इनमें स्नातक (यूजी) प्रथम वर्ष की लगभग 17 हजार सीटें हैं। प्राइवेट कॉलेजों को मिला लें तो 50 कॉलेजों में 25 हजार सीटें यूजी प्रथम वर्ष के लिए हैं। सरकारी कॉलेजों में प्रवेश के लिए विद्यार्थी ज्यादा कोशिश करते हैं, ऐसे में जिले के सरकारी कॉलेजों में सीटें नहीं बढ़ी तो विद्यार्थी परेशान होंगे। कॉलेजों में 25 से 30 फीसदी सीटें बढ़ेंगीं तभी विद्यार्थी सरकारी कॉलेजों में प्रवेश की इच्छा पूरी कर पाएंगे। अन्यथा सरकारी कॉलेजों में प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को परेशान होना पड़ेगा।

इन कॉलेजों में प्रवेश के लिए होगा संघर्ष

शहर के एमएलबी और केआरजी कॉलेज में प्रवेश के लिए सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा रहेगी। केआरजी कॉलेज में छात्राओं के लिए पहली पसंद है, वहीं आर्ट और कॉमर्स में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी एमएलबी कॉलेज में प्रवेश लेने की कोशिश करते हैं। इन दोनों ही कॉलेजों में 30 प्रतिशत तक सीटें बढ़ाए जाने की जरूरत पड़ेगी। साइंस कॉलेज में कंप्यूटर साइंस में सीटें बढ़ाने की जरूरत पड़ेगी, अन्य कोर्सों में सीटें बढ़ाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

डिस्टेंस एजुकेशन पर भी फोकस करना होगा

जीवाजी यूनिवर्सिटी के पूर्व डायरेक्टर काॅलेज डेवलपमेंट कमेटी प्रो. डीडी अग्रवाल का कहना है कि छात्रों की संख्या बढ़ेगी, ऐसे में कॉलेजों में अचानक संसाधन बढ़ाना आसान नहीं होगा। ऐसी स्थिति में डिस्टेंस एजुकेशन पर फोकस करना होगा। इनमें ज्यादा संसाधन की आवश्यकता नहीं होती है, इसके अलावा छात्रों के लिए वोकेशनल कोर्स भी ज्यादा संख्या में शुरू करना चाहिए ताकि विद्यार्थियों की डिग्री के साथ रोजगार भी मिल सके। इस साल कला संकाय में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या बढ़ेगी।

शहर के प्रमुख स्कूलों की स्थिति

  • उत्कृष्ट स्कूल मुरार: हायर सेकंडरी में 308 विद्यार्थी, 304 प्रथम श्रेणी तथा 4 द्वितीय श्रेणी में पास हुए। स्कूल के अजय शर्मा ने 97.6% अंक प्राप्त कर स्कूल में टॉप किया।
  • गजराराजा हायर सेकंडरी स्कूल : गजराराजा गर्ल्स स्कूल में 392 छात्राएं हायर सेकंडरी में अध्ययनरत थीं, इनमें से 255 प्रथम श्रेणी, 116 द्वितीय श्रेणी में तथा 21 तृतीय श्रेणी में पास हुई हैं। यहां पर गणित संकाय की छात्रा नैना शाक्य ने 96.8 प्रतिशत अंक लेकर टॉप किया है।
  • जीवाजीराव हायर सेकंडरी स्कूल : हायर सेकंडरी में 180 विद्यार्थी पढ़ते हैं इनमेें से 117 प्रथम श्रेणी, 48 द्वितीय श्रेणी तथा 15 तृतीय श्रेणी में पास हुए हैं।
  • पद्मा गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल : 524 छात्राओं का रिजल्ट घोषित किया गया है, इनमें से 382 प्रथम श्रेणी, 112 द्वितीय श्रेणी तथा 20 तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण हुए हैं। छात्रा सेजल सिकरवार ने 97.8 प्रतिशत अंक प्राप्त कर स्कूल में टॉप किया है।

टॉपर्स बोले- परीक्षा होती तो हमारे और अच्छे अंक आते

वंशिका अग्रवाल: उत्कृष्ट स्कूल मुरार की वंशिका के 96.2% अंक आए हैं। वंशिका के पिता संतोष अग्रवाल मुरार में रहते हैं और व्यवसायी हैं। गणित संकाय की वंशिका कहती हैं कि पढ़ाई में नियमितता की वजह से ही उनके अंक अच्छे आते हैं।

सेजल सिकरवार: पद्मा गर्ल्स हायर सेकंडरी स्कूल की गणित संकाय की छात्रा सेजल सिकरवार ने 97.8% अंक प्राप्त किए हैं। सेजल के पिता रविंद्र सिंह किसान हैं, वह डबरा के शेखूपुरा में खेती करते हैं। सेजल मां के साथ शहर में रहकर पढ़ाई कर रही हैं। इनका कहना है कि परीक्षा होती तो उनके अंक इससे भी ज्यादा आते, लेकिन अब वैकल्पित परीक्षा देने से टाइम टेबल बिगड़ जाएगा।

अजय शर्मा: उत्कृष्ट स्कूल मुरार में पढ़ने वाले गणित संकाय के छात्र अजय शर्मा ने 97.6% अंक प्राप्त किए हैं। उन्होंने कहा परीक्षा होती तो भी इतने ही अंक आते। स्कूल में जो पढ़ाया जाता था, उसका रिवीजन भी रोज कर लेते थे। पढ़ाई की नियमितता से इतने अंक प्राप्त किए हैं। इनके पिता अशोक शर्मा किसान हैं और बेहट के पास बेनीपुरा के रहने वाले हैं।

प्रिया मिश्रा: उत्कृष्ट स्कूल मुरार की गणित संकाय की छात्रा प्रिया के 96.2% अंक आए हैं। वह इंजीनियर बनना चाहती है। प्रिया कहती हैं कि वे वैकल्पिक परीक्षा में शामिल नहीं होगीं, क्योंकि उनका कॉलेज में प्रवेश व जेईई की तैयारी पर असर होगा। प्रिया के पिता महानंद मिश्रा प्राइवेट नौकरी करते हैं।

खबरें और भी हैं...