पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लाइनमैन स्टाफ जान जोखिम में डालकर दे रहे सेवाएं:बिजली की ट्रिपिंग रोकने के लिए स्टाफ ने पानी में खड़े होकर किया मेंटेनेंस

मुरैना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के 100 करोड़ से ज्यादा के काम कराए जाने के बाद भी बिजली कंपनी के लाइनमैन स्टाफ को जान जोखिम में डालकर सेवाएं देना पड़ रही हैं। रविवार को मुरैना फीडर के मेंटीनेंस के लिए बिजली कर्मचारियों ने जौरी तालाब के पानी में 2 घंटे खड़े रहकर खतरों के बीच काम किया। रविवार को बिजली कंपनी ने शहर की बिजली सप्लाई के बीच आ रही ट्रिपिंग को कम करने के लिए मुरैना फीडर का मेंटीनेंस कराया। चूंकि महाराजपुरा 33 केवी सब स्टेशन से मुरैना फीडर के लिए निकली लाइन जौरी के तालाब से होकर गुजरी है।

इसलिए लाइनमैन स्टाफ को पोल के ऊपर इंसुलेटर बदलने के लिए नसैनी बांधकर काम करना पड़ा। 6 डिग्री पारा के बीच बिजली कर्मचारी जान जोखिम में डालकर तालाब के बीच 2 घंटे से तार व रस्सा खींचते रहे। ऐसा ही मशक्कत कर्मचारियों ने डिस्क इंसुलेटर बदलने के लिए की। बताया गया है कि तालाब के बीच लगे बिजली के पाेल व तारों पर पक्षियों की बसेरा रहता है। इससे बिजली की लाइन पर फॉल्ट बढ़ रहे हैं। यहां बता दें कि बिजली कर्मचारियों की जान जोखिम में डालकर कंपनी उनसे मेंटीनेंस के काम करा रही है। लेकिन उसमें सुधार के प्रयास नहीं कर रही है।

खबरें और भी हैं...