पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61771.740.76 %
  • NIFTY18495.350.86 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47189-1.48 %
  • SILVER(MCX 1 KG)631020.23 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • Beneficiaries Had To Approve 29 Crores, 47 Lakhs, 55 Thousand Amounts, Did Not Give To Anyone, The Administration Gave Notice By Giving Notice

सीएम हेल्पलाइन की नहीं परवाह:हितग्राहियों को 29 करोड़, 47 लाख, 55 हजार राशि स्वीकृत करना थी, किसी को भी नहीं दी, प्रशासन ने नोटिस देकर कर दी खानापूर्ति

मुरैनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संभागायुक्त आशीष सक्सैना - Money Bhaskar
संभागायुक्त आशीष सक्सैना
  • नोटिस में कहा क्यों न आपके खिलाफ की जाए सख्त कार्रवाई

हितग्राहियों को देने के लिए श्रम विभाग ने 29 करोड़, 47 लाख, 55 हजार रुपए की राशि स्वीकृत कर दी लेकिन अधिकारी ने एक भी हितग्राही को नहीं दी। जब जिला प्रशासन को इसकी जानकारी लगी तो उन्होंने ठोस कार्रवाई करने की जगह केवल नोटिस थमाकर खानापूर्ति कर दी। यह मामला मुरैना के कैलारस तहसील में देखा गया है। यहां संभागायुक्त द्वारा सीएम हेल्पलाइन में लापरवाही बरतने पर जनपद पंचायत की सीईओ व नगर पालिका बानमौर के सीएमओ को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
अगर किसी व्यक्ति की सुनवाई नहीं होती है तो वह सीएम हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज कराता है। उसे भरोसा होता है कि अब उसकी शिकायत पर सुनवाई की जाएगी तथा जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई होगी। लेकिन जिले में सीएम हेल्पलाइन के निराकरण में लापरवाई बरती जा रही है। दूसरी तरफ जिला प्रशासन इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों को केवल नोटिस थमाकर खानापूर्ति कर रहा है। लोगों का कहना है कि अगर प्रशासन ठोस कार्रवाई करे तो सीएम हेल्पलाइन के मामलों को गंभीरता से लिया जा सकेगा। बीते दिन कलेक्टर के अनुमोदन पर संभागायुक्त ने नगर पालिका सीएमओ बानमौर व जनपद पंचायत सीईओ को सीएम हेल्पलाइन में लापरवाही बरतने पर नोटिस थमाया है।
यह है पूरा मामला
यहां बता दें, कि सीएम हेल्पलाइन की लंबित शिकायत संख्या-1000003087 जिसमें स्व. सुरेन्द्र दुबे पंजीयन क्रमांक-1194102298 मई 2018 की मौत 29 मई 2018 को हुई थी। इसका प्रकरण जनपद पंचायत कैलारस के द्वारा 3 जुलाई 2018 को सामान्य मृत्यु के अर्न्तगत 2 लाख रुपए स्वीकृत किए गए थे। लेकिन उसका भुगतान नहीं किया गया। यह तो केवल एक मामला है, बता दें कि, पोर्टल पर एक अप्रेल 2018 से 30 जुलाई 2018 तक की अवधि में स्वीकृत प्रकरणों के आदेश क्रमांक-513/ दिनांक 31 जुलाई 2018 के द्वारा श्रम आयुक्त कार्यालय से 29 करोड़, 47 लाख, 55 हजार रुपए की राशि हितग्राहियों को वितरण करने के लिए जारी की गई थी। जिसमें तत्कालीन कार्यपालन अधिकारी कैलारस अजय सिंह वर्मा ने स्वृीकृत उपरांत भी राशि का भुगतान नहीं किया। इतनी बड़ी राशि में राशि स्वीकृत होने व उसका भुगतान न करने की घोर लापरवाही के बावजूद जिम्मेदार अधिकारी को कोवल नोटिस थमाकर खानापूर्ति की गई है।
बानमोर नगर पालिका सीएमओ को भी थमाया नोटिस
यहां बता दें, कि बानमौर नगर पालिका सीएमओ सियाशरण यादव द्वारा भी लंबित सीएम हेल्पलाइन का निराकरण नहीं किया गया है। जिसके कारण उनको भी कारण बताओ नोटिस दिया गया है। यह स्थिति केवल दो ही तहसीलों की है। अन्य तहसीलों में भी यही हाल है।

खबरें और भी हैं...