पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समस्या:गंदगी व दुर्गंध के बीच सब्जी खरीदना मजबूरी, पीने का पानी व शौचालय की सुविधा भी नहीं

कैलारस4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंडी में अव्यवस्थाएं फैलने से मुख्य सड़कों पर लग रहे सब्जी के ठेले, मुसीबत बनी जाम की समस्या

आवारा मेवशी आए दिन लोगों को कर रहे चोटिल
नगर की प्रमुख सब्जी मंडी में स्थानीय लोगों को मूलभूत सुविधाएं न मिलने से काफी परेशानी हो रही है। आलम यह है कि मंडी में नियमित सफाई नहीं होने से जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हुए हैं तथा आवारा मवेशी व सूअर आए दिन सब्जी खरीदने जा रहे लोगों को चोटिल कर रहे हैं। सब्जी में पानी का पानी भी उपलब्ध नहीं है तथा शौचालय नहीं होने से सब्जी विक्रेता व ग्राहक दोनों को परेशानी हो रही है। यहां बता दें कि अलोपी शंकर पहाड़िया के पास नगर की प्रमुख सब्जी मंडी लगती है। इसलिए सुबह व शाम के समय वहां सैकड़ों लोग सब्जी खरीदने जाते हैं। बावजूद इसके नगर पालिका के स्तर पर वहां मूलभूत सुविधाएं नहीं जुटाई गई हैं।

सब्जी मंडी के हालात नहीं सुधरने से सड़क किनारे लगने लगे ठेले: सब्जी मंडी में पसरी अव्यवस्थाएं सुधरने का नाम नहीं ले रही हैं। इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले किसान किराए का ठेला लेकर कहीं भी सड़क किनारे खड़े होकर अपना धंधा कर रहे हैं। लेकिन सड़क किनारे सब्जी के ठेले लगने से नगर का आवागमन प्रभावित हो रहा है तथा जाम लगने की समस्या मुसीबत बनती बनती है जा रही है। वर्तमान में पहाड़गढ़ रोड स्थित 5 एल नहर की पुलिया, पहाड़गढ़ चौराहा एमएस रोड पर सब्जी के ठेले लग रहे हैं।

शौचालय व पीने के पानी का इंतजाम भी नहीं
बस स्टैंड के पास लगने वाली सब्जी मंडी में सार्वजनिक शौचालय तक नहीं है। इसकी वजह से न केवल सब्जी खरीदने आ रहे लोगों को दिक्कत होती है, बल्कि सब्जी विक्रेताओं को भी परेशानी झेलनी पड़ रही है। शौचालय के अभाव में सबसे अधिक परेशानी महिलाओं को हो रही है। यहां बताना जरूरी है कि रोजाना सुबह 6 से 9 बजे बजे से सब्जी मंडी में लोगों की अधिक भीड़ रहती है।

सिर्फ घोषणा ही हुईं
नगर की सब्जी मंडी की दशा सुधारने की ओर अफसरों की बात तो छोड़िए, जनप्रतिनिधियों ने भी ध्यान नहीं दिया है। मालूम हो कि क्षेत्रीय विधायक सूबेदार सिंह सिकरवार व नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष अंजना-ब्रजेश बंसल ने भी चुनाव के दौरान सब्जी मंडी की देशा सुधारने की घोषणा की थी। लेकिन इन जनप्रतिनिधियों का वायदा केवल चुनावी घोषणा तक ही सीमित रहा।

खबरें और भी हैं...