पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Datia
  • Two Cousins Who Were Going To Take Fodder On The Farm By Bicycle Fell Into The Well In The Dark Without A Hood, Died

दो चचेरे भाईयो की कुएं में गिरने से मौत:साइकिल से खेत पर चारा लेने जा रहे दो चचेरे भाई अंधेरे में बिना मुंडेर के कुएं में गिरे, मौत

दतिया4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्राम काम्हर की घटना, गांव में पसरा सन्नाटा, घर में बन रहे थे पकवान, बेटे बोले- हम अभी चारा उठाकर आ रहे, मां बोली- पापा उठा लाएंगे नहीं माने, फिर लौटकर घर नहीं आए

जिगना थाना क्षेत्र के ग्राम काम्हर में दो सगे चचेरे भाई साइकिल से खेत पर जाते वक्त कुएं में गिर गए जिससे दोनों भाईयों की मौत हो गई। मृतकों की उम्र 7 और 12 वर्ष बताई गई है। दोनों बच्चे शनिवार देर शाम अंधेरा होने पर साइकिल से अपने खेत पर मवेशियों के लिए बरसीम (हरी घास) लेने जा रहे थे। तभी रास्ते में महेंद्र चौहान के अंधे कुएं में मय साइकिल से गिर पड़े। कुआं पानी से लबालब होने के कारण बच्चे पानी में डूब गए और दोनों की मौत हो गई। जानकारी मिलने पर जिगना पुलिस मौके पर पहुंची और बच्चों को ग्रामीणों की मदद से कुएं से बाहर निकालकर जिला अस्पताल पहुंचाया।

रविवार को सुबह पीएम कराने के बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है। दोनों बालक अपने माता पिता की इकलौती संतानें थे। हादसे के बाद गांव में सन्नाटा छाया हुआ है। जानकारी के अनुसार ग्राम काम्हर निवासी लोकेश (12) पुत्र लखन अहिरवार अपने सगे चचेरे भाई प्रिंस (7) पुत्र संदीप अहिरवार को साइकिल पर बैठाकर शनिवार शाम सात बजे अपने खेत पर बरसीम लेने गया था। रात में अंधेरा होने और खेत का रास्ता खराब होने से दोनों बच्चों को कुआं दिखाई नहीं दिया। जिससे लोकेश और पीछे बैठा प्रिंस, दोनों मय साइकिल से महेंद्र चौहान के खेत में स्थित कुएं में जा गिरे।

कुछ देर बाद परिजन ढूंढ़ने निकले तो बच्चे कुएं में डूबे थे। खबर मिलने पर जिगना थाना प्रभारी भास्कर शर्मा मय फोर्स के घटना स्थल पर पहुंचे। ग्रामीणों की मदद से बच्चों को बाहर निकाला। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है। वहीं घटना के बाद से पूरे गांव में सन्नाटा है। दोनों बालक अपने माता पिता की इकलौती संतान थे।

बिना मुंडेर का कुआं इसलिए गिरे बच्चे

ग्राम कम्हर में जिस जगह बच्चे कुएं में डूबे वह बिना मुंडेर का था। इसलिए बच्चों को दिखाई नहीं दिया और दोनों बच्चे उसी में गिर गए। ऐसे कुएं कामहर गांव में ही नहीं बल्कि जिले में कई जगह हैं। चंदेवा की बाबड़ी के पाश भांडेर रोड पर इसी तरह के कुएं में ट्रैक्टर पीछे आते वक्त गिर गया था जिसमे ड्राइवर की मौत हो ही थी। एक साल पहले बसई में बिना मुंडेर के कुएं में वाहन के गिर जाने से आबकारी ठेकेदार अशोक राय की मौत हुई थी।

संक्रांति पर्व पर बन रहे थे पकवान
शाम के साढ़े छह बजे थे। घर के।अंदर मकर संक्रांति के पर्व के चलते पकवान बनाए जा रहे थे। इसी बीच लोकेश बोला-मम्मी हम प्रिंस के संगे चारो उठावे जा रए साइकिल से। मम्मी ने कहा भी की पापा उठा लाएंगे...रात हो गई...तुम नई जाओ। लेकिन दोनों बेटे नहीं माने। साइकिल उठाकर निकल गए खेतों की तरफ। पीछे छोटा भाई प्रिंस बैठा था। गांव से कुछ दूरी पर ही पहुंचे थे फिर लौटकर नहीं आये। घर मे बने पकवान बने तो लेकिन किसी ने खाये नहीं।

खबरें और भी हैं...