पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिंदगी की जंग जीता 4 साल का मासूम:छतरपुर में 7 घंटे चले रेस्क्यू में बोरवेल से निकाला, 25 फीट की गहराई में फंसा था बच्चा

छतरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मध्यप्रदेश के छतरपुर में बोरवेल में गिरे 4 साल के मासूम दीपेंद्र को सकुशल निकाल लिया गया है। करीब 7 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बच्चे को बाहर निकाला गया। रेस्क्यू टीम ने बोरवेल के गड्ढे में रस्सी डाली, ये रस्सी बच्चे ने अपने कंधे में फंसा ली। जिसके बाद उसे धीरे-धीरे खींचकर गड्ढे से निकाल लिया गया। बच्चे को निकालते ही मेडिकल चेकअप के लिए अस्पताल ले जाया गया।

घटना ओरछा रोड थाना क्षेत्र के नारायणपुरा और पठापुर गांव के पास की है। यहां नारायणपुरा के रहने वाले अखिलेश यादव का 4 साल का बेटा दीपेंद्र यादव परिवार के साथ खेत पर गया था। जो खेलते-खेलते बोरवेल में गिर गया। रेस्क्यू ऑपरेशन में सेना ने भी मोर्चा संभाला। इसके अलावा SDERF, प्रशासन और पुलिस भी पूरे समय मौके पर मौजूद रही। बच्चे को सकुशल निकाले जाने के बाद परिजनों के साथ ही ग्रामीणों और प्रशासन की टीम ने राहत की सांस ली।

रेस्क्यू के बाद मां की गोद में लेटा हुआ मासूम दीपेंद्र।
रेस्क्यू के बाद मां की गोद में लेटा हुआ मासूम दीपेंद्र।

इससे पहले रुक-रुककर हुई बारिश से रेस्क्यू में परेशानी भी आई। टीम ने बारिश से बचने के लिए तिरपाल से गड्ढे के आसपास का क्षेत्र कवर कर बचाव कार्य किया। खुद कलेक्टर और पुलिस अधिकारी कई बार बचाव के लिए खोदे गए गड्ढे में उतरे और स्थिति का जायजा लिया। बच्चा करीब 25 फीट की गहराई में फंसा था। इस दौरान उसे ऑक्सीजन भी दी गई। गड्‌ढे से पैरेलल करीब 28 फीट से भी गहरी खुदाई की गई।

कैमरे में नजर आया बच्चे का मूवमेंट

दीपेंद्र दोपहर ढाई बजे से गड्ढे में फंसा था। सूचना पर पुलिस और प्रशासनिक अफसर मौके पर पहुंचे। बोरवेल के अंदर कैमरा डाला गया, जिसमें बच्चे का मूवमेंट भी नजर आया। मौके पर SDERF (स्टेट डिजास्टर इमरजेंसी रिस्पांस फोर्स) की टीम ने भी मोर्चा संभाला। बच्चे ने टीम द्वारा गड्‌ढे में डाली गई रस्सी पकड़ ली। जिसके बाद उसे खींचकर बाहर निकाल लिया गया।

छतरपुर में चल रहे बच्चे के रेस्क्यू ऑपरेशन को कलेक्टर संदीप जीआर और एसपी सचिन शर्मा लीड कर रहे थे।
छतरपुर में चल रहे बच्चे के रेस्क्यू ऑपरेशन को कलेक्टर संदीप जीआर और एसपी सचिन शर्मा लीड कर रहे थे।
रेस्क्यू के दौरान बारिश होने से तिरपाल की छत बनाई गई।
रेस्क्यू के दौरान बारिश होने से तिरपाल की छत बनाई गई।

CM शिवराज ने भी जताई खुशी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दीपेंद्र के सकुशल निकलने पर खुशी जताते हुए उसके माता-पिता और प्रशासन की पूरी टीम को बधाई दी।

मुख्यमंत्री ने बच्चे की मां से की थी बात

इससे पहले मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉल के माध्यम से बच्चे की मां से बात की थी। सीएम ने उन्हें बच्चे को सुरक्षित निकालने का आश्वासन दिया था। उन्होंने बच्चे की मां से कहा था कि प्रशासनिक अमला रेस्क्यू में जुट गया है। मौके पर CMO ओमपाल सिंह भदौरिया भी पहुंचे थे। उन्होंने फीता डालकर ये जाना कि बच्चा कितने फीट की गहराई पर फंसा है। खुद DSP शशांक जैन भी गड्ढे में उतरे।

रात में रेस्क्यू के लिए लाइट की व्यवस्था की गई। मौके पर भीड़ जमा हो गई।
रात में रेस्क्यू के लिए लाइट की व्यवस्था की गई। मौके पर भीड़ जमा हो गई।

150 लोग रेस्क्यू में लगे

बच्चे को बचाने के लिए रेस्क्यू टीम के करीब 150 लोग लगे। इसमें एसडीआरएफ, पुलिस, नगर पालिका और नगर सेना की टीम शामिल थी। इसके अलावा करीब 300 से ज्यादा ग्रामीण भी मदद के लिए मौजूद रहे। बोरवेल में कैमरा डाला गया। वहीं, तीन जेसीबी से खुदाई कार्य में जुटी रही।

मौके पर SDERF की टीम ने मोर्चा संभाला।
मौके पर SDERF की टीम ने मोर्चा संभाला।
CMO ओमपाल सिंह भदौरिया ऊपर से फीता डाला। DSP शशांक जैन गड्ढे की गहराई नापने के लिए उतरे।
CMO ओमपाल सिंह भदौरिया ऊपर से फीता डाला। DSP शशांक जैन गड्ढे की गहराई नापने के लिए उतरे।

मां बोली- बारिश के पहले ही हटाई थी झाड़ियां

दीपेंद्र की मां लक्ष्मी ने बताया कि कैसे बच्चा बोरवेल में गिरा।
दीपेंद्र की मां लक्ष्मी ने बताया कि कैसे बच्चा बोरवेल में गिरा।

मां लक्ष्मी यादव ने बताया कि बेटा दादा के साथ खेत पर गया था। उनके दो बेटे हैं। बड़ा नरेश और छोटा दीपेंद्र है। पिछले साल ही नर्सरी में दाखिल करवाया था। एक साल पहले ही खेत पर बोरवेल लगवाया था। पानी नहीं निकलने के कारण बोरवेल को कंटीली झाड़ियां रखकर बंद कर दिया गया था। बारिश के पहले खेत बनाने के लिए हाल ही में झाड़ियों को हटाया गया था। वहां खेलते हुए दीपेंद्र बोरवेल के पास गया और हादसा हो गया।

बोरवेल में कैमरा डाला गया। कलेक्टर संदीप जीआर मौके पर मौजूद रहे।
बोरवेल में कैमरा डाला गया। कलेक्टर संदीप जीआर मौके पर मौजूद रहे।
एम्बुलेंस से ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाया गया।
एम्बुलेंस से ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाया गया।

मुख्यमंत्री शिवराज ने ली रेस्क्यू की जानकारी
छतरपुर में बच्चे के बोरवेल में गिरने की खबर पर CM शिवराज सिंह ने अफसरों से रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी ली। शिवराज सिंह चौहान ने मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री और कलेक्टर छतरपुर से फोन पर चर्चा कर निर्देश दिए थे कि बच्चे को शीघ्र निकालने की समुचित व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ की टीम को भी निर्देश दिया कि वह घटनास्थल पर पहुंचकर बच्चे को निकालने का कार्य प्रारंभ करे।

बारिश के कारण खेत में कीचड़ हो गया। इस कारण रेस्क्यू में परेशानी आई।
बारिश के कारण खेत में कीचड़ हो गया। इस कारण रेस्क्यू में परेशानी आई।
मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई।
मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई।
बच्चे को ऑक्सीजन सप्लाई दी गई।
बच्चे को ऑक्सीजन सप्लाई दी गई।
ऑक्सीजन सिलेंडर भी मौके पर पहुंचाए गए थे।
ऑक्सीजन सिलेंडर भी मौके पर पहुंचाए गए थे।