पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Rajgarh
  • The Nephew Said Uncle Had Left The House In The Morning Asking To Withdraw Pension, After Half An Hour The News Of Death Came, I Did Not Know That I Am Watching For The Last Time.

राजगढ़ हादसे में परिवार का दर्द:भतीजा बोला - काका घर से सुबह पेंशन निकालने जाने का कहकर निकले थे, आधे घंटे बाद मौत की खबर आई, नहीं पता था आखिरी बार देख रहा हूं

राजगढ़एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ऑटो और ट्रैक्स की टक्कर में 70 साल के पन्नालाल (ऊपर) सहित पांच की जान चली गई। (भतीजा दरियाव सिंह नीचे) - Money Bhaskar
ऑटो और ट्रैक्स की टक्कर में 70 साल के पन्नालाल (ऊपर) सहित पांच की जान चली गई। (भतीजा दरियाव सिंह नीचे)

मुझे नहीं पता था कि सुबह मैं अपने काका और भाई से आखिरी बार मिल रहा हूं। काकी के देहांत के बाद मैं, काका और भाई के साथ ही रह रहा था। वो तो पेंशन निकालने का कहकर भाई के साथ राजगढ़ जाने के लिए निकले थे। घर से निकलने के आधे घंटे बाद उनकी मौत की खबर आई। यह कहना था हिरणखेड़ी के रहने वाले दरियाव सिंह का। राजगढ़ सड़क हादसे में दरियाव के काका पन्नालाल और उनके बेटे प्रभुदयाल की मौत हो गई है। हादसे की जानकारी लगते ही भतीजा मौके पर पहुंचा, यहां से अस्पताल आया, लेकिन काका और भाई की लाश देखकर फफक पड़ा। पीएम के बाद वह शव लेकर अंतिम संस्कार के लिए गांव रवाना हो गया।

आधे घंटे बाद ही आई मौत की सूचना

दरियाव सिंह ने बताया कि मेरे काका पन्नालाल तंवर मेरे साथ ही रहते थे। मेरी काकी का कुछ कुछ समय पहले निधन हो गया था। काकी की मौत के बाद काका मैं और मेरा भाई प्रभुलाल साथ ही रहते थे। काका के पास करीब 2 बीघा जमीन थी। उन्हें वृद्धा पेंशन भी मिलती थी। प्रभुलाल की अभी शादी नहीं हुई थी। सुबह वे उठे और चाय -नाश्ता करने के बाद मुझसे कहा कि दरियाव मैं पेंशन निकालने जा रहा हूं। प्रभु को भी लेकर जा रहा हूं। करीब साढ़े 8 बजे वे घर से निकले। मैं भी अपने काम पर लग गया। करीब 9 बजे मुझे पता चला कि काका और भाई जिस ऑटो से निकले थे, उसका एक्सीडेंट हो गया है। मैं सब काम छोड़कर तत्काल मौके पर भागा, जब मैं मौके पर पहुंचा तो सबको अस्पताल लेकर जाया जा रहा था। मेरे काका और भाई की मौत हो चुकी थी। मुझे नहीं पता था कि मेरे काका और भाई से मैं सुबह आखिरी बार मिल रहा हूं।

राजगढ़ में बड़ा हादसा, 5 लोगों की मौत:ऑटो में 7 लोग सवार थे, जीप ने मारी टक्कर, हादसे में बाप-बेटे भी मारे गए; ऑटो ड्राइवर घायल

हादसे के बाद मौके पर पहुंचे परिजन अपनों को कफन में देख फफक पड़े।
हादसे के बाद मौके पर पहुंचे परिजन अपनों को कफन में देख फफक पड़े।

कुत्ते को बचाने के चक्कर में गई 5 की जान

राजगढ़ से 3 किलोमीटर दूर ब्यावरा रोड पर गुरुवार सुबह 9 बजे ट्रैक्स और ऑटो की भिड़ंत में पांच लोगों की मौत हो गई। वहीं, ड्राइवर सहित दो लोग घायल हैं। 22 साल के करण सिंह का राजगढ़ में इलाज चल रहा है। वहीं, ऑटो चालक प्रेमसिंह उर्फ बबलू की हालत गंभीर हाेने पर उसे भोपाल रैफर किया गया है। मरने वालों में दो महिलाएं और 3 पुरुष शामिल हैं।

राजगढ़ हादसे की आंखों देखी:करण बोला- कुत्ते को बचाने के चक्कर में ऑटो रॉन्ग साइड चला गया; जीप की टक्कर से हम 10 फीट दूर गिरे, चिपकी हुईं लाशें देख कांप गया

हादसे में इनकी हुई मौत

  • पिपलिया गांव की रहने वाली 40 साल की संतराबाई।
  • हिरनखेड़ी के रहने वाले 70 साल के पन्नालाल और उनका बेटा 30 साल का प्रभुलाल तंवर।
  • चौकीगांव का रहने वाला 65 साल का मोर सिंह।
  • अभयपुरा की रहने वाली 70 साल की पार्वती पति मांगीलाल।
खबरें और भी हैं...