पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

2 साल बाद फिर लगेगा मेला:रायसेन में विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप पर बढ़ने लगी पर्यटकों की भीड़

रायसेन7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सांची स्तूप पर पर्यटकों की भीड़। - Money Bhaskar
सांची स्तूप पर पर्यटकों की भीड़।

रायसेन में सरकार की रोक हटने के बाद पर्यटन स्थलों पर लोगों की भीड़ नजर आने लगी है। रविवार को भी विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप पर बड़ी संख्या में पर्यटक दूर-दूर से पहुंचे। रोक हटने के बाद कोरोना काल के चलते 2 साल से बंद मेले का आयोजन भी इस बार महाबोधि सोसायटी द्वारा किया जा रहा है।

इसको लेकर तैयारी भी शुरू हो गई है। मेला नवंबर के आखरी रविवार को लगता है इस मेले में सांची स्तूप परिसर के चैत्यगिरी ग्रह में रखी बौद्ध भिक्षु महामोद गल्याण एवं सारिपुत्र की अस्थियों को सुबह जिला प्रशासन के सामने श्रीलंका से आए शिष्यों द्वारा निकाला जाता है। इसके बाद विशेष पूजा-अर्चना और प्रार्थना की जाती है।

इसके बाद दूसरे दिन लोगों के दर्शन के लिए मंदिर में रखा जाता है। फिर रविवार को शिष्यों द्वारा इन अस्थि कलश को सर पे रख कर स्तूप की परिक्रमा लगाई जाती है। इस दौरान वियतनाम से आए लगभग 80 सदस्य दल द्वारा पूरे गाजे-बाजे के साथ भगवान बुद्ध के नारे लगाते हुए चलते हैं पूरा परिसर साधु-साधु के नाम से गूंजने लगता है।

कलेक्टर अरविंद दुबे ने बताया सरकार द्वारा रोक हटाने के बाद विश्व प्रसिद्ध सांची स्तूप पर मेले का आयोजन वर्तमान में कोरोना गाइडलाइन के तहत किया जाएगा यह मेला महाबोधी सोसायटी द्वारा आयोजित किया जाता है।