पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58584.470.16 %
  • NIFTY17439.70.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46149-0.06 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59920-1.88 %

MP में इसलिए नहीं लग रही कोवैक्सिन:पहले डोज के लिए एक माह से नहीं मिली वैक्सीन, दूसरे डोज वाले भी परेशान; गुजरात और दक्षिण में प्रोडक्शन शुरू नहीं होने से दिक्कत

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मध्य प्रदेश में कोवैक्सिन की कमी ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। प्रदेश में पहला डोज लगवाने के लिए कोवैक्सिन ही उपलब्ध नहीं है। दूसरा डोज लगवाने वाले भी परेशान हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग का कहना है, सप्लाई को देखते हुए कोवैक्सिन का दूसरा डोज लगाया जा रहा है।

प्रदेश में लंबे समय से कोवैक्सिन का पहला डोज लगवाने के लिए लोग परेशान हो रहे हैं। राजधानी में कोवैक्सिन का पिछले एक महीने से पहला डोज नहीं लग रहा। वहीं, इंदौर में तो दूसरा डोज लगवाने के लिए भी लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। यही स्थिति अधिकतर जगह बनी हुई है। इसे लेकर अधिकारियों का कहना है कि जुलाई में कोवैक्सिन की आपूर्ति मांग के अनुसार होना था।

दरअसल, गुजरात के अंकलेश्वर और साउथ में कोवैक्सिन का प्रोडक्शन शुरू होना था। यह प्रोडक्शन शुरू नहीं होने से आपूर्ति के अनुसार मांग नहीं हो पा रही। हैदराबाद से हो रहे वैक्सीन का प्रोडक्शन देशभर की मांग के अनुसार पर्याप्त नहीं है। यही कारण है, प्रदेश में कोवैक्सिन की पर्याप्त आपूर्ति नहीं हो पा रही।

सप्लाई की रफ्तार धीमी

प्रदेश में अब तक 32 लाख 86 हजार 915 लोगों को कोवैक्सिन के डोज लगे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिछले एक माह में प्रदेश में करीब 3 लाख ही कोवैक्सिन के डोज सप्लाई हुए हैं।

राज्य टीकाकरण अधिकारी संतोष शुक्ला ने बताया, कोवैक्सिन की कम सप्लाई को देखते हुए दूसरे डोज को प्राथमिकता में रखा है। इसके अलावा, कम समय में गर्भवती को कोवैक्सिन लगाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...