पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The Car Driver Brought Home On The Pretext Of Leaving Indore, The Sister Living In Indore Called Dial 100 And Sent The Police

बैतूल की टीचर को भोपाल में बंधक बनाकर मारपीट:कार चालक इंदौर छोड़ने के बहाने घर लेकर आया, इंदौर में रह रही बहन ने डायल-100 को फोन कर पुलिस भेजी

भोपाल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बैतूल के सरकारी स्कूल में पदस्थ महिला शिक्षक को भोपाल में बंधक बनाकर मारपीट करने का मामला सामने आया है। महिला की शिकायत पर इंदौर की चंदन नगर पुलिस ने जीरो में अपराध कायम कर जांच के लिए केश डायरी गोविंदपुरा थाना भोपाल को भेजी है। शिक्षिका ने पुलिस को बताया, कार चालक उसे इंदौर छोड़ने के बहाने गाड़ी में बैठा लिया। इसके बाद इंदौर की जगह वह अपने घर भोपाल लेकर पहुंच गया। घर में उसे बंधक बना लिया। नशे की हालत में उसके साथ गाली-गालौच मारपीट की। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। फिलहाल, आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

गोविंदपुरा पुलिस के मुताबिक, मूलत: चुरहट, सीधी निवासी कल्पना वर्मा (30) तीन साल से शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भैंसदेही, जिला बैतूल में शिक्षक के पद पर पदस्थ हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि 27 अक्टूबर को उसकी पहचान का एक लड़का प्रशांत तिवारी भैंसदेही में उसके कमरे पहुंचा। इसके बाद मूझे इंदौर में रहने वाली मेरी बहन सपना के पास पहुंचाने के लिए कार में बैठा लिया। इंदौर की जगह आरोपी उसे रचना नगर (लक्की किराना स्टोर) भोपाल में अपने घर ले गया। इसके बाद मुझे कमरे मे बंद कर कहीं चला गया।

थोड़ी देर बाद शराब पीकर वापस आया। और मुझे शराब के नशे में गालियां देने लगा। विरोध करने पर मारपीट शुरू कर दी। इसी बीच अपनी बहन को बताने के लिए फोन निकाला तो प्रशान्त ने मेरे से मोबाइल छीन लिया। इसके बाद मैंने प्रशान्त से छिपकर अपनी बहन सपना फोन किया। बहन को बताया कि प्रशान्त तिवारी ने मेरे साथ मारपीट की है। इसके साथ ही मूझे कमरे में बन्द कर लिया है। मेरी बहन सपना ने डायल-100 नम्बर पर फोन लगाकर पुलिस भेजी। पुलिस ने मुझे उसके कमरे से बाहर निकाला। गोविंदपुरा थाना प्रभारी अशोक सिंह परिहार ने बताया कि आरोपी की जल्द गिरफ्तारी कर ली जाएगी।

पुलिस ने इंदौर जाने वाली बस में बैठाया
शिक्षिका ने इंदौर पुलिस को बताया कि प्रशांत के घर से मुझे बाहर निकालने वाले पुलिसकर्मी मुझे इंदौर भेजने के लिए आईएसबीटी लेकर पहुंचे। इसी बीच मेरा दोस्त दोस्त रविन्द्र कुशवाह बस स्टैण्ड पहुंचा। उसने मुझे बैतूल छोड़ा। इसके बाद बहन सपना मुझे लेकर इंदौर पहुंची। जहां थाने जाकर प्रशांत के खिलाफ मामला दर्ज कराया।

खबरें और भी हैं...