पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12वीं का छात्र बना आतंकियों का टूल!:15 हजार में बनवाया सॉफ्टवेयर, इसी से भेजे भोपाल के स्कूलों को उड़ाने के ई-मेल

भोपाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल में CBSE के 40 स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी भरा ई-मेल भेजने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। ई-मेल भेजने के लिए जिस बॉट्वस प्रोग्राम का यूज किया गया था, उसे तमिलनाडु के रहने वाले 12वीं के स्टूडेंट ने बनाया है। इसे टेलीग्राम यूजर्स ने 200 डॉलर में उससे खरीदा था। छात्र कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पाइथन का मास्टर है। वह प्रोग्रामिंग के साथ डाटा साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की भी कोडिंग कर लेता है। IP एड्रेस प्रोग्रामिंग का भी जानकार है।

छात्र की टेक्निकल नॉलेज से पुलिस भी हैरान है। कारण- 12वीं का छात्र ऐसे प्रोग्राम डिजाइन कर रहा है, जो M.TECH के स्टूडेंट करते हैं। इसी कारण वह दो राज्यों की पुलिस को कई दिनों तक छकाता रहा। पुलिस अब उस टेलीग्राम यूजर्स को तलाश रही है, जिसने छात्र से प्रोग्राम खरीदकर स्कूलों को धमकी भरे ई-मेल भेजे हैं। छात्र ने जो प्रोग्राम टेलीग्राम यूजर को बेचा, उससे एक साथ 20-25 हजार ई-मेल भेजे जा सकते हैं।

कई प्रोग्राम बनाकर ऑनलाइन बेचे
पढ़ाई के दौरान ही छात्र कई प्रोग्राम बनाकर ऑनलाइन बेच चुका है। डीसीपी क्राइम ब्रांच अमित कुमार ने बताया कि स्टूडेंट तमिलनाडु के सेलम जिले का रहने वाला है। उसने ई-मेल भेजने के लिए प्रोग्राम डिजाइन किया था। जिसे उसने टेलीग्राम के जरिए 15 हजार रुपए में बेचा था। इसी प्रोग्राम के जरिए अप्रैल में बेंगलुरू के स्कूलों, मई में भोपाल के स्कूलों को बम से उड़ाने के मैसेज भेजे गए। डीसीपी ने बताया कि स्टूडेंट से प्रोग्राम खरीदने वाले मुख्य आरोपी की तलाश की जा रही है। स्टूडेंट को नोटिस दिया गया है। अभी पुलिस उसे आरोपी नहीं मान रही। एमपी पुलिस के साथ बेंगलुरू पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

छोटे-छोटे टूल्स बना रहा
डीसीपी ने बताया कि स्टूडेंट छोटे-छोटे टूल्स बनाता है। इन्हें टेलीग्राम चैनल के जरिए ऑनलाइन बेचता है। अब तक वह कितने लोगों को टूल्स बेच चुका है, इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। वह ऐसे प्रोग्राम डिजाइन करता है, जिनको ट्रेस करना मुश्किल होता है। साइबर के एक्सपर्ट ही उसकी तकनीक को पकड़ सकते हैं।

बेंगलुरु पुलिस नहीं पकड़ पाई, इसलिए बढ़ा हौसला
पुलिस को आशंका है कि स्टूडेंट ने बेंगलुरु के 6 स्कूलों को भी डेढ़ महीने पहले ऐसे धमकी भरे मेल भेजे थे। स्थानीय पुलिस उसे ट्रेस नहीं कर पाई, तो उसका हौसला बढ़ता गया। बता दें कि पांच दिन पहले भोपाल के 40 से अधिक स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी मिली थी। इसके बाद भोपाल पुलिस जांच में जुट गई थी। ईमेल जिस ID से आया, वो रशियन गर्ल के नाम पर बना था। ईमेल में दो पावरफुल बम से स्कूलों को उड़ाने की धमकी दी गई थी।

इन स्कूलों में आए थे धमकी भरे ई-मेल
भोपाल में CBSE के 7 मिशनरी स्कूलों के अलावा सागर पब्लिक स्कूल, सेज इंटरनेशनल स्कूल, सेंट जोसेफ स्कूल, DPS स्कूल, आनंद विहार स्कूल और IES पब्लिक स्कूल को भी धमकी भरे ई-मेल मिले हैं। हालांकि, अधिकतर स्कूल प्रबंधन ने इस संबंध में किसी भी तरह की पुष्टि नहीं की थी। किसी भी सरकारी या एमपी बोर्ड के स्कूल को अभी तक इस तरह का कोई ई-मेल नहीं मिला है।

रशियन गर्ल के नाम से स्कूलों को उड़ाने की धमकी:भोपाल में DPS, सेज इंटरनेशनल समेत 40 से ज्यादा स्कूलों को आया धमकी भरा ईमेल

खबरें और भी हैं...