पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Showing A Slap, I Will Speak To The Students By Dragging One; Students Clash For Not Meeting The Minister

MP के मंत्री का थप्पड़बाज सचिव:शिक्षामंत्री मोहन यादव से मिलने पहुंचे छात्रों पर भड़के, थप्पड़ दिखाते हुए कहा- एक खींचकर दूंगा ###

भोपाल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मध्यप्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के बंगले पर उनके निजी सचिव विजय बुधवानी कॉलेज स्टूडेंट्स पर भड़क गए। थप्पड़ दिखाते हुए बोले- एक खींचकर दूंगा ###... को। स्टूडेंट्स ऑनलाइन एग्जाम किए जाने की मांग को लेकर मंत्री से मुलाकात करने पहुंचे थे। इंतजार के बाद भी मुलाकात नहीं होने पर स्टूडेंट्स नाराज हो गए। बुधवानी भी उन पर बिगड़ गए।

अपनी सफाई में बुधवानी ने उनसे कहा कि मंत्री से मिलने का समय तय है। उन्हें नहीं पता कि छात्र बाहर कब से इंतजार कर रहे थे। बातचीत के दौरान वह अभद्रता करने लगे। उन्हें बंगले के बाहर मुलाकात के समय पर आने को कहा था।

स्टूडेंट ने रिकॉर्ड कर ली सचिव की करतूत
कोरोना के कारण छात्र लंबे समय से ऑफलाइन की जगह ऑनलाइन परीक्षा कराए जाने की मांग कर रहे हैं। इसे लेकर पहले RGPV में छात्रों ने हंगामा किया था। इसके अलावा बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी समेत सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटी में अधिकांश छात्र ऑफलाइन परीक्षा का विरोध कर रहे हैं। इसके लेकर जगह-जगह प्रदर्शन भी किए गए हैं।

सोमवार दोपहर कुछ छात्र उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के बंगले पर पहुंच गए। वह काफी देर तक बंगले के बाहर खड़े रहे। इस बीच उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव आए, लेकिन वे छात्रों से मिले बिना ही अंदर चले गए। इससे भड़के छात्र उनके ऑफिस में विजय बुधवानी के कक्ष में बिना इजाजत के अंदर घुस गए। वे मंत्री से तुरंत मिलने की जिद करने लगे।

बुधवानी ने छात्रों से कहा कि वे मुलाकात के समय आएं। इसको लेकर उनके बीच बहस होने लगी। इसके बाद बुधवानी छात्रों को चांटा दिखाते हुए कहा कि एक खींचकर दूंगा। यह सब एक छात्र ने फोन पर रिकॉर्ड कर लिया। मोबाइल देखते ही बुधवानी ने रिकॉर्डिंग बंद करवा दी।

बुधवानी की सफाई- जबरन मिलने की जिद कर रहे थे

बुधवानी ने कहा कि छात्र जबरन मंत्री से मिलने की जिद कर रहे थे। ऑफिस में घुसकर बहसबाजी करने लगे थे। मंत्री से मिलने का निर्धारित समय है। यही बात तो उन्हें कह रहा था, लेकिन बात सुनने को तैयार नहीं थे।