पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा क्यों जरूरी:NTSE टेस्ट देने वाले भविष्य में प्रतियोगी परीक्षा में टॉप करते हैं; आत्मविश्वास से लेकर स्कॉलरशिप तक मिलती है

भोपाल8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा (NTSE) 10वीं के छात्रों के लिए होती है। NTSE देने वाले छात्र अन्य छात्र जो 11वीं या 12वीं में नेशनल लेवल की परीक्षा की तैयारी करते हैं उनसे एक एक साल आगे कर देते हैं। ऐसे छात्र ही आगे चल कर प्रतियोगी परीक्षाओं में टॉप करते हैं। प्रतिभाशाली छात्रों के लिए यह सिर्फ छात्रवृति कार्यक्रम सिर्फ नहीं है, बल्कि यह छात्रों को भविष्य बनाने में मदद करते है। इसके फायदे और सफलता पाने के बारे में जानना जरूरी है। यह परीक्षा 16 जनवरी 2022 में आयोजित की जाएगी। आइए जानते हैं एक्सपर्ट रणधीर सिंह (आकाश इंस्टीट्यूट, भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर) से...

NTSE परीक्षा

  • स्कॉलरशिप : 11वीं और 12वीं में हर महीने 1250 रुपए, यूजी और पीजी में 2 हजार रुपए हर महीने।
  • टॉप कॉलेज : इससे प्रदेश के टॉप कॉलेज में एडमिशन में फायदा होता है।
  • विदेशी कॉलेज : विदेश के भी कॉलेज में एडमिशन लेने में NTSE को वेटेज मिलता है।
  • बोर्ड परीक्षा : NTSE परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए बोर्ड एग्जाम काफी आसान हो जाते हैं
  • आत्म विश्वास : इससे बच्चों में नेशनल लेवल के एग्जाम देने का आत्मविश्वास विकसित होता है।

इस तरह करें तैयारी

NTSE पाठ्यक्रम के बारे में पूरी जानकारी होना चाहिए। इसे अपने 10वीं की पढ़ाई के साथ लिंक करें। एनटीएसई तैयारी परीक्षा के अनुसार चलती है। इसकी तैयारी के लिए अलग से प्रयास करने की आवश्यकता नहीं होती है।

NTSE की परीक्षा देने के लिए पिछले साल के प्रश्नपत्रों को पढ़ना जरूरी होता है। इसके साथ ही पिछले साल की कटऑफ लिस्ट भी चेक करना चाहिए। इससे तैयारी करने में मदद मिलती है।

टेस्ट के लिए रिवीजन बहुत जरूरी है। लगातार पढ़ाई करें और विषयों को अच्छे से पढ़ें। परीक्षा को सवालों के पूरे विश्वास के साथ समय पूरा करने का अभ्यास करें। पहले सरल सवालों के जवाब दें। फिर कम कठिन और उसके बाद कठिन सवालों के जवाब पर फोकस करें। नकारात्मक मार्किंग नहीं होने से गलत जवाब होने पर चिंता नहीं करें। इसलिए सभी सवालों के जवाब जरूर दें।

यह भी पढ़े

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

खबरें और भी हैं...