पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

MP पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा:हड़बड़ी में परीक्षा केंद्र पहुंचे उम्मीदवार; कोई फोटो भूला तो किसी को 12 घंटे में 400 KM का सफर करना पड़ा

भोपालएक वर्ष पहलेलेखक: अनूप दुबे
  • कॉपी लिंक

स्थान, भोपाल के बिलखिरिया बायपास पर ट्रिनिटी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड रिसर्च। पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा का सेंटर। गार्ड पेपर देने पहुंचे एक उम्मीदवार को केंद्र में प्रवेश करने से रोक देते हैं। उम्मीदवार अपने साथ अपने फोटो नहीं लाया था। गंजबासौदा से भोपाल पेपर देने आए अनुज दांगी जैसे कई उम्मीदवारों को परीक्षा केंद्र पर इस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा।

खराब मौसम और पेपर के बारे में देरी से पता चलने के कारण उम्मीदवारों को केंद्र तक पहुंचने में काफी दिक्कतें हुई। भोपाल समेत प्रदेश के 13 शहरों में मध्यप्रदेश पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा शनिवार से शुरू हो गई। प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) परीक्षा करा रहा है।

अनुज जैसे कई उम्मीदवार खराब मौसम के कारण हड़बड़ी में केंद्र तक पहुंचे, तो समय पर परीक्षा के बारे में पता नहीं चलने के कारण कई उम्मीदवारों को 400 KM तक का सफर करना पड़ा। भोपाल में 16 सेंटर पर करीब 6 हजार उम्मीदवार परीक्षा दे रहे हैं। परीक्षा दिलाने आए उम्मीदवारों के पेरेंट्स का कहना था कि आखिर रोजगार का सवाल है। ऐसी ही परिस्थितियों में परीक्षा केंद्र पहुंचे तीन लोगों की आपबीती।

जल्दबादी में 12 घंटे में भोपाल पहुंचे

बैतूल में रहने वाले नर्मदा प्रसाद ने बताया कि वे बैतूल से करीब 8 किमी दूर रहते हैं। उनकी शुभांगी ने आरक्षक भर्ती परीक्षा का फॉर्म भरा था। शुक्रवार को वह बैतूल काम से गई थी। वहां परिचितों ने शनिवार से परीक्षा होने के बारे में बताया। उसने पीईबी की वेबसाइड से प्रवेश पत्र डाउनलोड किया, तो पता चला कि उसका शनिवार को ही पेपर है। सेंटर भोपाल था। ऐसे में दोपहर बाद वे बेटी को लेकर भोपाल आए। 12 घंटे में जल्दबाजी में भोपाल आना पड़ा। पीईबी को सूचना देने का कोई व्यवस्था करना चाहिए।

परीक्षा दिलाने 400 KM की दूरी तय की

श्योपुरकलां से आए जीवन लाल ने बताया कि वे नाती को पेपर दिलाने भोपाल आए हैं। उन्हें कल पता चला कि नाती का पेपर है। श्योपुर से पहले ग्वालियर बस से आए। उसके बाद भोपाल पहुंचे। यहां तक पहुंचने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। ठंड और बारिश के कारण काफी परेशानी हुई। कोई साधन भी समय पर नहीं मिल रहा था।

खबरें और भी हैं...