पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Breaking Friends Drink Wine In The Morning; The Accused Stabbed A 20 year old Boy In The Chest Over A Dispute Over Money.

भोपाल स्टेशन पर जानलेवा हमला:साथ में शराब पी; रुपयों को लेकर विवाद हुआ, आरोपियों ने 20 साल के दोस्त के सीने में चाकू घोंपा

भोपाल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल रेलवे स्टेशन के बाहर सोमवार सुबह करीब 10 बजे चार युवकों ने एक साथ शराब पी। शराब पीने के बाद तीन युवक शराब पीने के लिए फरियादी से और रुपए मांगने लगे। विरोध करने पर आरोपियों ने दोस्त के सीने में चाकू घोंप दिया। उनसे बचने के लिए गंभीर हालत में युवक करीब 100 मीटर तक दौड़ लगाते हुए पार्सल यार्ड में छिप गया। मौके पर पहुंची जीआरपी भोपाल ने घायल को अस्पताल पहुंचाया। उसकी हालत गंभीर बताई जाती है।

एएसआई जीआरपी भोपाल गोरख नाथ ने बताया कि घटना सुबह करीब साढ़े 10 बजे की है। भोपाल रेलवे स्टेशन के पार्सल यार्ड के यहां से रेलवे के कुछ कर्मचारियों ने एक युवक के लथपथ पड़े होने की सूचना दी थी। मौके पर पहुंचकर युवक को हमीदिया अस्पताल पहुंचाया गया। वह बेसुध था। कुछ बोलने की स्थिति में नहीं था।

प्रारंभिक इलाज के बाद वह कुछ बोलने की स्थिति में आया। उसने अपना नाम 20 साल के नीलेश राजपूत बताया। उसने बताया कि वह मूलत: इटारसी का रहने वाला है। करीब 10-12 साल से भोपाल रेलवे स्टेशन पर रहता है। पहले वह ट्रेन में पान-गुटखा बेचता था। कोरोना के कारण उसका यह काम बंद हो गया, तो वह रेलवे स्टेशन पर पानी की सप्लाई करने लगा।

उसने बताया कि उस पर उसके ही तीन दोस्तों ने हमला किया है। घटना स्थल बजरिया पुलिस थाने का होने के कारण जीआरपी जीरो पर कायमी कर मामले की जांच के लिए केस डायरी बजरिया पुलिस का सौंपेगी।

जैसा नीलेश ने पुलिस को बताया...

नीलेश ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 10 बजे सनी मैं और दो अन्य लोग रेलवे स्टेशन के बाहर शराब की दुकान पर पहुंचे। यहां बियर की बोतल और एक अंग्रेजी शराब ली। दुकान से कुछ दूरी पर सामने ही हमने शराब पी ली। इसके बाद हमने और शराब ली। उसे खत्म करने के बाद सनी और उसके दोनों दोस्त और शराब पीने की जिद करने लगे।

मैंने मना कर दिया। इससे नाराज होकर सनी ने जेब से चाकू निकालकर मेने सीने में घोंप दिया। उसने दूसरी बार वार किया, लेकिन मैं बचकर वहां से भाग गया। पुराने आरपीएफ थाने के पास से छोटी सी जगह से निकलकर पार्सल यार्ड में पहुंच गया। वह भी पीछे-पीछे खोजते हुए आ गए, लेकिन वह मुझ तक नहीं पहुंच पाए। बेहोश होने के कारण उसके बाद मुझे कुछ याद नहीं।