पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

भोपाल में टूरिस्टों को घुमाने के नाम पर फर्जीवाड़ा!:वन विहार में घुमाने के लिए फर्जी वेबसाइट, 100 रुपए में 4 लोगों की एंट्री; मैनेजमेंट ने थमाए नोटिस

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वन विहार नेशनल पार्क। - Money Bhaskar
वन विहार नेशनल पार्क।

भोपाल के वन विहार नेशनल पार्क में टूरिस्टों को घुमाने के नाम पर फर्जी वेबसाइट शुरू हो गई। इसमें 100 रुपए में 4 लोगों को एंट्री का ऑफर भी दिया गया। जब वन विहार मैनेजमेंट को इसकी जानकारी लगी, तो आपत्ति ली गई। सोमवार को मैनेजमेंट​​​ ने ​​ संबंधित संस्था को नोटिस थमा दिए। मैनेजमेंट जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ, तो कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

ये वेबसाइट अन इन्वाइटेड ऑफ एकल अभियान से जुड़ी थी, जो प्राइवेट संस्था 'एकल युवा' की है। इसमें 18 अक्टूबर को फैमिली के 4 लोगों को वन विहार में घुमाने का 100 रुपए का ऑफर दिया गया। बकायदा, लोगों तक लिंक भी पहुंची। फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ था, जब कुछ लोग वन विहार पार्क पहुंचे, लेकिन मैनेजमेंट ने उन्हें इंट्री नहीं दी। इन लोगों से संस्था ने सैर कराने के नाम पर 100-100 रुपए लिए थे। वन विहार के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. एके जैन ने बताया कि ऐसा प्रावधान वन विहार मैनेजमेंट द्वारा नहीं किया गया है। इस संबंध में लिंक में दिए गए मोबाइल नंबरों पर संपर्क किया और आपत्ति जताई गई है। सोमवार को संबंधितों को नोटिस दिए गए हैं। स्पीड पोस्ट के माध्यम से यह नोटिस भेजे गए। इसके बाद कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

वन विहार में घूमने का इतने चुकाने होते हैं रुपए

वन विहार में घूमने पर लोगों को मैनेजमेंट द्वारा निर्धारित रुपए चुकाने होते हैं। एक व्यक्ति पैदल भ्रमण 20, साइकिल से 30 रुपए, बाइक पर दो सवारी 60 रुपए, ऑटो में 4 सवारी 120 रुपए, कार में 5 सवारी 250 रुपए और 5 सवारी से ज्यादा 400 रुपए, मिनी बस 20 सवारी तक 1000 रुपए, इससे ज्यादा 2000 रुपए, सफारी गाड़ी से प्रति सवारी 50 रुपए। वहीं, 5 साल से छोटे बच्चों का टिकट नहीं लगता है।

संस्था के लोगों का तर्क

डिप्टी डायरेक्टर डॉ. जैन ने बताया कि फर्जी लिंक के बारे में जब संस्था के लोगों से बात की गई, तो उन्होंने बताया कि संस्था से जुड़े लोगों के लिए ही यह ऑफर दिया था, लेकिन लिंक बाहरी लोगों तक पहुंच गई। हालांकि, संस्था के तर्क कुछ भी हो, नोटिस देकर जवाब मांगा गया है।

खबरें और भी हैं...