पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %

उम्मीद तोड़ती पुलिस:8 महीने...1625 चोरी, रिकवरी सिर्फ 19 फीसदी; जनवरी से अगस्त तक बदमाशों ने की 9.60 करोड़ की चोरी

भोपालएक महीने पहलेलेखक: विशाल त्रिपाठी
  • कॉपी लिंक
इस साल...  मार्च, जुलाई और अगस्त में ही 5.88 करोड़ का माल चोरी हुआ, सबसे कम अप्रैल में 36 लाख की चोरियां। - Money Bhaskar
इस साल... मार्च, जुलाई और अगस्त में ही 5.88 करोड़ का माल चोरी हुआ, सबसे कम अप्रैल में 36 लाख की चोरियां।

इंद्रपुरी बी-सेक्टर से तीन महीने पहले चोरी हुई फर्नीचर कारोबारी अरुण जैन की फुली ऑटोमैटिक फॉर्च्यूनर चुराने वाले बदमाशों को भोपाल पुलिस अब तक नहीं तलाश पाई है। करीब 38 लाख की एसयूवी चोरी के इस मामले में खात्मे की तैयारी है। अरुण भी अब अपनी एसयूवी के मिलने की उम्मीद खो चुके हैं। अरुण जैसे राजधानी के सैकड़ों लोग हैं, जिन्हें अपने घर पर हुई चोरी के खुलासे में नाउम्मीदी ही नजर आ रही है।

इस साल जनवरी से अगस्त महीने तक की बात करें तो बदमाशों ने 9.60 करोड़ रुपए की चोरी की है। हालांकि, भोपाल पुलिस इसमें केवल 19.8 फीसदी ही रिकवरी कर पाई है। यानी 7.7 करोड़ रुपए से ज्यादा अब भी चोरों की जेब में हैं। ये हाल तब हैं, जब कि इस साल भी कोरोना संक्रमण के कारण चोरी की वारदात में कमी आई थी।

13 करोड़ की ठगी की है राजधानी में जालसाजों ने बीते तीन साल में 5600 शिकायतों में ये आंकड़ा सामने आया था। 50% ठगी झारखंड, पश्चिम बंगाल और बिहार राज्यों में बैठे जालसाजों ने की। 24% ठगी लोगों से ओटीपी पूछकर बदमाशों ने की है।

अब पुलिस की प्राथमिकता में तीसरे पायदान पर

रिटायर्ड डीजीपी आरएलएस यादव कहते हैं कि संपत्ति संबंधी अपराधों का खुलासा अब पुलिस की प्राथमिकता में तीसरे पायदान पर है। मौजूदा पुलिस कानून व्यवस्था और वीआईपी सुरक्षा पर ज्यादा ध्यान देती है। इस तरह के बड़े आंकड़े सामने आ रहे हैं तो पुलिस अफसरों को जिले की क्राइम ब्रांच को बेहद मजबूत करना चाहिए। इसमें केवल एक्सपर्ट पुलिसकर्मी ही पदस्थ किए जाएं, ताकि संपत्ति संबंधी अपराधों के खुलासे का औसत बढ़ सके। पहले इन मामलों में रिकवरी का औसत 66 फीसदी तक रहता था।

30 मामलों में पुलिस ने लगाया खात्मा

भोपाल पुलिस के आंकड़ों पर गौर करें तो इस साल जनवरी से अगस्त महीने के बीच कुल 1659 चोरियां दर्ज हैं। इनमें 423 हाउस ब्रेकिंग और 1236 सादा चोरी शामिल हैं। इस दौरान बदमाश 9.6 करोड़ रुपए का माल चुरा ले गए। इनमें से पुलिस महज 1.9 करोड़ का माल ही रिकवर कर पाई है। यानी 7.7 करोड़ से ज्यादा की चोरी की फाइलें ठंडे बस्ते में हैं। इनमें भी 30 मामलों में पुलिस ने खात्मा/खारिजी कर दी है।